दामोदर लाल जांगिड़ की ग़ज़लें

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

DSCN5197 (Custom)

ग़ज़ल 1

 

खरपतवारें पाली बाबा।

अज़ब अनाड़ी माली बाबा॥

 

टिड्डे बैठे पात पात पर ,

उल्‍लू डाली डाली बाबा।

 

कुटिल बिल्‍लियां यहां दूध की,

करती हैं रखवाली बाबा।

 

दूनिया बड़ी निराली बाबा ,

अपनी देखी भाली बाबा।

 

भरी रहे र्निनाद हमेशा,

बजती हैं बस खाली बाबा।

 

कहां रखी रहन किसी ने ,

हर घर की खुशहाली बाबा।

 

पाचन तंत्र सुदृढ़ इतना कि ,

वो लेते नहीं जुगाली बाबा।

 

छलनी जैसी कर बैठेगा ,

वो अपनी ही थाली बाबा।

 

धवल वेश में छिपा रखी थी,

कुत्‍सित काया काली बाबा।

 

---

ग़ज़ल 2

क्‍यों आस्‍थाएं दे रही आख्‍यान लड़की ।

कि आज भी दुनिया में हैं भगवान लड़की ॥

 

ये चूड़ियां हैं बेड़ियां नादान लड़की ,

मत बिन्‍धाओ नाक और ये कान लड़की ।

 

नहीं हैं मूंछ ढ़ाढ़ी मर्द की पहचान लड़की ,

वही हैं मर्द तो जो दे तुम्‍हें सम्‍मान लड़की ।

 

सिन हो कमसिन तो कहां इरफान लड़की ,

उत्‍फाल तो हैं नासमझ नादान लड़की ।

 

तू दुख्‍तरे हौवा हैं नातुअरन लड़की ,

हैं वाग्‍देवी तुझपे मेहरबान लड़की ।

 

क्‍यों लोग हैं तुझको पराया धन बताते,

तू बाप की दहलीज की हैं आन लड़की।

----

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

2 टिप्पणियाँ "दामोदर लाल जांगिड़ की ग़ज़लें"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.