मनोज अग्रवाल की कविता - इंतजार

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

DSCN4005 (Custom)

इंतजार

कोई

इंतजार नहीं करता,

तारीखों के

ठहर जाने का।

हम चलते चले जाते हैं,

दूर की यात्राओं में।

तेज हवाओं,

तीखी बारिश,

गहन कालिमा के बीच

क्षत-विक्षत

अपनी नौका-पतवार

और

अविजित इच्छा शक्ति

के साथ।

हम प्रयास करते जाते हैं

आगे बढ़ने की।

प्रतीक्षा है,

बसंत की।

एक साफ -सुथरी सुबह की।

जब थम जायेगी-

यह बारिश।

गुजर जायेगा यह तूफान।

---

-मनोज अग्रवाल

मुंगेली, जिला-बिलासपुर

छत्तीसगढ़

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

2 टिप्पणियाँ "मनोज अग्रवाल की कविता - इंतजार"

  1. प्रतीक्षा है,

    बसंत की।

    एक साफ -सुथरी सुबह की।
    jab aaye , per aaye

    उत्तर देंहटाएं
  2. ऍह्हत विछत अपनी नौका पतवार और, अविजीत ईच्छा शक्ति
    के साथ हम प्रयास करते हैं आगे बढने का ।

    बेहेतेरीन अभिव्यक्ति , बधाई मनोज अग्रवाल जी।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.