मंगलवार, 8 मार्च 2011

मालिनी गौतम की कविता - बेशरम के पौधे

besharam ke paudhe (Custom)

बेशरम के पौधे

कभी-कभी मुझे लगता है

कि मुझमें कहीं

अन्दर उगे हुए हैं

’बेशरम’ के पौधे !

 

ये पौधे बार-बार

सिर उठाकर

पूछते हैं

कुछ विचित्र से प्रश्न.......

वे प्रश्न जो

पूछना मना हैं

एक स्त्री के लिये !

 

वह स्त्री जिसकी

जुबान पर

लगा है ताला

सदियों से........

क्योंकि देवियाँ भी

क्या कभी बोलती हैं?

 

वे तो त्याग

समर्पण,प्रेम

और सहनशीलता की

मूर्ति होती हैं !

 

मैं भी बड़ी

कोशिश करती हूँ

इस देवी स्वरूप को

अपनाने की,

बार-बार कुचल देती हूँ

’बेशरम’ के पौधे

की फुनगियों को !

 

कानों में डाल

देती हूँ उँगलियां

ताकि सुन न सकूँ

वे प्रश्न, जो मुझे

मजबूर करते हैं

मेरे अस्तित्व को

तलाशने पर।

 

मजबूर करते हैं मुझे

देवियों की परछाइयों से दूर

सिर्फ एक स्त्री

बनकर जीने के लिये !

 

प्रश्नों के इस

कोलाहल को

बमुश्किल रोक पाती हूँ

एक-दो या

चार दिन!

और फिर से

फुनगियों में

सुगबुगाहट शुरू

हो जाती है,

 

नई कोंपलें

फूटने लगती हैं

कोलाहल उठने लगता है

हर बार पहले की

अपेक्षा अधिक तेज !

---

डॉ. मालिनी गौतम

मंगलज्योत सोसाईटी

संतरामपुर-३८९२६०

गुजरात

4 blogger-facebook:

  1. बहुत खूबसूरती से नारी के मनोभावों को लिखा है

    उत्तर देंहटाएं
  2. नारी मन के भावो का शानदार चित्रण किया है।
    महिला दिवस की हार्दिक बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मजबूर करते हैं मुझे

    देवियों की परछाइयों से दूर

    सिर्फ एक स्त्री

    बनकर जीने के लिये !

    આધી દુનિયા કી હકીક્ત કા ફલસફા ......અપની પરછાયિં કો તલાશતી સ્ત્રી કી તડપ.......
    માલિની જી ! દેવી નિરંતર દેતી હૈ .....ક્યોંકિ વહ ઇતની સમર્થ હૈ.....પુરુષ તો યાચક હૈ ...સદા કા ભિખારી ......કિન્તુ યહ કલયુગ કી વિડમ્બના હૈ કિ યાચક ને દેવી કો બંદિની બના લિયા હૈ......સ્ત્રી-પુરુષ કે ઇસ બટવારે મેં હમ તો આપકે પક્ષ મેં ખડે હૈન..........મેરા વામાંગ સ્ત્રી કા જો હૈ ......

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------