रविवार, 13 मार्च 2011

गोविन्द मालव की कविता - एक ख्वाहिश

DSCN4030 (Custom)
दूर एक ख्वाहिश रह गयी दिल मेँ,
एक जान अनजान रह गयी तो क्या।


हजारोँ यादेँ साथ लेकर भी हम,
किसी को अपना न बना सके तो क्या।


लोगोँ की कारस्तानी दूर से नजर आयी,
हाल अपना सुधार न सके तो क्या।


वो खामोश ही रह गये जुबाँ से,
उन्हेँ फितरत पसन्द न आयी तो क्या।


चाहत की रोशनी मेँ मेरा धुंधला समाँ,
तकलीफ उन्हेँ समझ न आयी तो क्या।


कोशिश रही हरदम पास जाने की,
खुदा की रहमत न हुई तो क्या।


मासूम मिजाज है उनकी भोली अदाओँ का,
दीदार-ए-तन्हा न कर सके तो क्या।


एक ही आरजू रहती है दिल में,
जीने मेँ उनका साथ मिल जाये तो क्या।
---

- गोविन्द मालव
पता - कवाई सालपुरा, बाराँ, राजस्थान
Email- govindkawai@gmail.com

1 blogger-facebook:

  1. एक ही आरजू रहती है दिल में,
    जीने मेँ उनका साथ मिल जाये तो क्या।

    सभी शेर एक से बढ़कर एक.....
    वाह! क्या खूबसूरत गजल कही है आपने !. ..........

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------