प्रभुदयाल श्रीवास्तव की बाल कविता - याद आई बीती बातें

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

  

   बीती बातें

बीते बरस सैकड़ा भर

अभी तक नहीं भूला पर |

बना रेत का घर घूला ,

जो थोपा था पंजों पर |

 

आया शाला से पैदल ,

झड़ी लगी थी झर झर झर |

लथपथ पूरा पानी से ,

काँप रहा था थर थर थर |

 

छींक छींक बेहाल हुआ ,

नाक बोलती घर घर घर |

विक्स मला था मम्मी ने ,

पीठ नाक और सीने पर |

 

याद हमें आती रहती ,

बीती बातें ये अक्सर |

खुशियों से मन भर जाता ,

हो जाते ताजा दम तर |

--

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

1 टिप्पणी "प्रभुदयाल श्रीवास्तव की बाल कविता - याद आई बीती बातें"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.