बुधवार, 23 मार्च 2011

उमेश कुमार यादव की कविता - जिन्दगी की कहानी

clip_image002

 

जिन्दगी के रंग में

जिन्दगी के संग में

नये नये ढंग में

नये नये रुप में

संगी मिलते रहे

मौसम खिलते रहे

मौसमों के खेल में

जिन्दगी गुज़र गई

संवर जाये जिन्दगी

इस होड़ में लगे रहे

जिन्दगी संभली नहीं

और जिन्दगी निकल गई ।

जिन्दगी की आस में

जिन्दगी भटक गई ।

++

जिन्दगी की आस में

जिन्दगी गुजर गई

आगे का सोचा नहीं

और जिन्दगी बदल गई

आस थी कुछ खास थी

कुछ करने की चाह थी

चाह पूरी न हुई

और जिन्दगी सहम गई

सच झूठ के द्वंद में

जिन्दगी मचल गई

हार जीत की सोच में

जिन्दगी बिगड़ गई

हिन्द में हो हिन्दी ही

अरमान धरी ही रह गई

++

क्या करें क्या न करें

यह सोचते ही रह गये

सोच ही कर क्या करें

जब जिन्दगी ठहर गई

पढ़ने की होड़ में

क्या क्या न जाने पढ़ गये

बिना किसी योजना के

पढ़ते ही रह गये

अपनी सभ्यता भूल

पाश्चात्य पर जा रम गये

सोचकर ही क्या करें जब

जिन्दगी बदल गई

जिन्दगी की आस में

जिन्दगी भटक गई ।

----

क्या करने आये थे

किस काम में हम लग गये

सत्कर्म छोड़कर

क्या क्या करते रह गये

परमार्थ का कार्य छोड़

निज स्वार्थ में ही रम गये

क्या करने आये थे

क्या क्या करते रह गये ।

 

धन के अति लोभ में

जिन्दगी बिगड़ गई

इधर गई उधर गई

जाने किधर किधर गई

हाथ मलते रह गये

और जिन्दगी निकल गई

जितने हम दूर गये

दूरियाँ बढ़ती गई

फासलों की फ़ाँद में

फ़ँसते चले गये

जिन्दगी बेचैन थी

जिन्दगी बेजान थी

फ़ैसलों की आड़ में

बहुत परेशान थी

क्या करें क्या ना करें

यह सोचकर हैरान थी

जिन्दगी की आस में

जिन्दगी निकल गई

दिन गिनते रह गये

और उम्र सारी ढल गई

हम देखते रह गये

और जिन्दगी बदल गई

जिन्दगी की आस में

जिन्दगी भटक गई ।

 

--------

उमेश कुमार यादव

मकान सं.- 25/2 / Qrt No. C-25/2

नोट मुद्रण नगर / Note Mudran Nagar

शालबनी, पोस्ट ऑफिस –आर.बी.एन.एम.एल.

Salboni, Post Office - RBNML

जिला/ Dist. – पश्चिम मेदिनीपुर / West Midnapore

पिन / PIN - 721132 (पश्चिम बंगाल/ W.B.)

ईमेल / Email – nirumbihaka@rediffmail.com,Ukyadav4u@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------