सुरेन्द्र अग्निहोत्री की कविता - रोशनी एक वहम...

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

रोशनी.......एक वहम!

सिर्फ अंधेरा..... कई रंगों, कई रूपों में

जी हाँ सिनेमा का यही रूप है।

सिनेमाई सरोकार की अनूठी पहल

गंदामी रंग के कपड़े पहने

कचरे के ढ़ेर बीच बुनते सपने

सुबह का उजाला एक ना एक दिन

आयेगा मेरे घर - आंगन

जब दूसरों की तरह पढ़ने में जाऊंगा

थियेटर में फिल्‍म, बाजार में खाना खाऊंगा

बच्‍चों की यह अभिलाषा

पूरी करने कौन गढ़ेगा परिभाषा।

--

 

सुरेन्‍द्र अग्‍निहोत्री

राज सदन, 120/132, बेलदारी लेन लालबाग लखनऊ

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

5 टिप्पणियाँ "सुरेन्द्र अग्निहोत्री की कविता - रोशनी एक वहम..."

  1. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (28-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुबह का उजाला एक ना एक दिन

    आयेगा मेरे घर - आंगन

    जब दूसरों की तरह पढ़ने में जाऊंगा

    Beautiful !

    .

    उत्तर देंहटाएं
  3. सामाजिक सरोकारों से प्रेरित यह अनूठी रचना बहुत पसंद आई ! काश ऐसी सुबह सबके जीवन में जल्दी से आये ! मेरी बधाई स्वीकार करें !

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.