शुक्रवार, 4 मार्च 2011

सतीश चन्द्र श्रीवास्तव की कविताएँ - बच्चा

कविताएं

बच्चा

१.

कल मैंने अपने बच्चे को

पीट दिया,

क्योंकि मैं नहीं चाहता ,

वह बाहर की मेरी दुनिया देखे

और पूछे ऐसे सवाल

जिनसे मैं बचना चाहता हूँ ।

२.

खूँटी पर

अपना कोट टाँग कर,

वे ज़ेब को टटोलते है

और चल देते है ,

उनका बच्चा सूनी निगाहों से

टटोलता है उनका मन,

बच्चे की निगाहों में

उठता है एक द्वंद ,

कोट

आखिर उसकी पहुँच से दूर क्यों है ।

३.

बच्चे देश के कर्णधार है

नहीं,

बच्चे चन्द लोगों के आहार है

फुटपाथों पर नंग धड़ंग सोते बच्चे ,

प्लेटफार्म पर भीख माँगते बच्चे

या चाय की दुकान पर,

दिखलायी पड़ जाते हैं अक्सर,

बच्चे जिन्हें पीने को दूध नहीं मिलता

दूध के डिब्बे पर बने

फोटो को देखते है और खुश हो लेते हैं ।

सिगरेट के टुकड़ों को पीते हुए,

जीवन को टुकड़ों में जीते हुए,

ज़िन्दगी के ज़हर को पीते हुए

जीते है बच्चे ।

बच्चे,

जिनके कन्धों पर टिका है

देश का भार,

शिक्षा के नाम पर सीखते है रोज

अपने मालिक से गालियाँ ।

बच्चे को यह सब अच्छा नहीं लगता

पर बच्चा चुप है, शांत है,

क्योंकि वह देश का कर्णधार है ।

४.

बच्चा,

चला जा रहा है स्कूल

बस्ते के बोझ से बेखबर,

जाते हुए बच्चे को देख कर

माँ को है उम्मीद,

बस्ते की कब्र से निकलेगा

शायद डाक्टर या शायद इंजीनियर ।

५.

बच्चे ने कहा,

तुम भी कितने अज़ीब हो पापा,

बच्चा भी कहते हो मुझे

और कहते हो ज़िद मत करो ।

६.

दो बच्चे है मेरे,

बड़ा है जो नाम रखा ईमानचंद

और छोटे का दौलतचंद ।

कुदरत का करिश्मा कहिए

या उसकी मार,

छोटे का कद, बड़े से बड़ा हो गया

और बड़ा छोटे से भी छोटा रह गया ।

---

सतीश चन्द्र श्रीवास्तव

५/२ ए रामानन्द नगर

अल्लापुर, इलाहाबाद

2 blogger-facebook:

  1. बच्चे ने कहा,
    तुम भी कितने अज़ीब हो पापा,
    बच्चा भी कहते हो मुझे
    और कहते हो ज़िद मत करो ।

    सभी क्षणिकाएं बहुत अच्छी हैं....एक से एक
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. amita5:47 am

    बच्चा,
    चला जा रहा है स्कूल
    बस्ते के बोझ से बेखबर,
    जाते हुए बच्चे को देख कर
    माँ को है उम्मीद,
    बस्ते की कब्र से निकलेगा
    शायद डाक्टर या शायद इंजीनियर

    बहुत सुंदर क्षणिकाएँ हैं
    बधाई अमिता

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------