सुमित शर्मा की कविता - बचपन

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

sumit sharma

बचपन

रेत गिट्टी,

ईंट मिट्टी,

और तपती धूप तले,

झुलसता हुआ

बचपन कोई मैं देखता हूँ।

 

सावन मनभावन,

निर्मल जल पावन,

और किसी टूटी टपरिया तले,

भीगता हुआ

बचपन कोई मैं देखता हूँ।

 

शरद अनवरत,

शीतलहर लेती लपट,

और किसी फटे चिथड़े तले,

सिकुड़ता हुआ

बचपन कोई मैं देखता हूँ।

 

बसंत मनपसंद,

हरदम ही आनंद,

और आधे नग्‍न बदन में,

फूल बीनता हुआ

बचपन कोई मैं देखता हूँ।

 

मुस्‍कुराता हरदम,

बदले चाहे मौसम,

और पनपता, और उन्‍नत,

खुशहाल बचपन का कोई

स्‍वप्‍न वही मैं देखता हूँ।

 

सुमित शर्मा, खिलचीपुर,जिला-राजगढ़ (म.प्र.)

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

8 टिप्पणियाँ "सुमित शर्मा की कविता - बचपन"

  1. खुशहाल बचपन का कोई

    स्‍वप्‍न वही मैं देखता हूँ।

    सुन्‍दर भावमय करते शब्‍द ...।

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस प्रकार के बचपन का सुन्दर चित्रण. आपको बधाई एवं शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस प्रकार के बचपन का सुन्दर चित्रण. आपको बधाई एवं शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस प्रकार के बचपन का सुन्दर चित्रण. आपको बधाई एवं शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छे .. लगे रहो..

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.