मंगलवार, 22 मार्च 2011

महादेवी वर्मा की कविता - '?'

          ?

शून्यता में निद्रा की बन,

उमड़ आते ज्यों स्वप्निल घन,

पूर्णता कलिका की सुकुमार,

छलक मधु में होती साकार;

 

हुआ त्यों सूनेपन का भान,

प्रथम किसके उर में अम्लान ?

और किस शिल्पी ने अंजान,

विश्व प्रतिमा कर दी निर्माण?

 

काल सीमा के संगम पर,

मोम सी पोड़ा उज्ज्वल कर,

उसे पहनायी अवगुण्ठन,

हास औ रोदन से बुन बुन !

 

कनक से दिन मोती सी रात,

सुनहली साँझ गुलाबी प्रात;

मिटाता रँगता बारम्बार,

कौन जग का यह चित्राधार ?

 

शून्य नभ में तम का चुम्बन,

जला देता असंख्य उडुगण;

बुमा क्यो उनको जाती मूक,

भोर ही उजियाले की फूँक ?

 

रजतप्याले में निद्रा ढाल,

बाँट देती जो रजनी बाल,

उसे कलियों में आँसू घोल,

चुकाना पड़ता किसको मोल ?

 

पोंछती जब हौले से वात,

इधर निशि के आँसू अवदात,

उधर क्यों हँसता दिन का बाल,

अरुणिमा से रंजित कर गाल ?

 

कली पर अलि का पहला गान

थिरकता जब वन मृदु मुस्कान,

विफल सपनों के हार पिघल

ढुलकते क्यों रहते प्रतिपल ?

 

गुलालों से रवि का पथ लीप

जला पश्चिम में पहला दीप,

विहँसती संध्या भरी सुहाग

दृगों से झरता स्वर्ण-पराग;

 

उसे तम की बढ़ एक झकोर

उड़ा कर ले जाती किस ओर ?

अथक सुषमा का स्रजन विनाश

यही क्या जग का श्वासोच्छ्वास ?

 

किसी की व्यथा सिक्त चितवन

जगाती कण कण में स्पन्दन,

गूँथ उनकी साँसों के गीत,

कौन रचता विराट संगीत ?

 

प्रलय बनकर किसका अनुताप,

डुबा जाता उसको चुपचाप ?

 

आदि में छिप आता अवसान

अन्त में बनता नव्य विधान,

सूत्र ही है क्या यह संसार

गुंथे जिसमें सुख-दुःख-जय-हार?

---

1 blogger-facebook:

  1. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (24-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------