विजय वर्मा की ग़ज़ल - बातों बातों में छलने का मौसम है...

   

ये मौसम 
बातों-बातों में छलने का मौसम है,

सर्द-आहों से पिघलने का मौसम है.

 

झूठ है,फरेब है ,दगा है ,बेईमानी है.

आप अब तक बचे है,ये क्या कम है!

 

नज़रों से  दूर तो नज़रअंदाज़ कर दिए,

सामने है तो बस हम ही हम है.

 

वक़्त का क्या है, गुजरता जाता है,

सुना है ज़माने में और भी ग़म है.

 

वह दौर भी गुजरा है कि हाथों में फूल थे,

आज तो नौनिहालों के भी हाथों में बम है.

 

हम तो हर बार सच बोल के हारे है ,

अपनी तो ऐसी है 'मेरे नादाँ सनम है.

 

आज भी है तेरी ईजाओं का इंतज़ार ,

बचा के रखना तेरे जितने सितम है 

 

उलाहने दो, ताने दो पर कुछ तो बोलो ,

देखो चुप ना रहना तुम्हे मेरी कसम है..

 


--
v k verma,sr.chemist,D.V.C.,BTPS

BOKARO THERMAL,BOKARO
vijayvermavijay560@gmail.com

-----------

-----------

1 टिप्पणी "विजय वर्मा की ग़ज़ल - बातों बातों में छलने का मौसम है..."

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.