बुधवार, 13 अप्रैल 2011

कृष्‍ण कुमार चन्‍द्रा की कविता - सवाल

Image022 (Custom)

देश के हर एक जिले में जिन्‍दगी बहुत बदहाल है।

और आप पूछते हैं कि कोरबा जिले का क्‍या हाल है ?

कहीं ऐसा तो नहीं कि आप कोरबा के नब्‍ज़ को,

पहले से पकड़ कर बैठे हैं जनाब।

और हमें उकसाते हैं कि हम कहें,

इंकलाब जिन्‍दाबाद, जिन्‍दाबाद इन्‍कलाब।

कहां तो एक तरफ स्‍वास्‍थ्‍य के लिये,

अंतर्राष्‍ट्रीय स्‍तर पर मुनादी चल रही है।

 

दूसरी ओर गरीबों के खातों में केवल,

बीमारी पल रही है।

हम नही उठायेंगे आवाज, जैसे-तैसे करके,

दो रोटी का जुगाड़ कर ही लेते हैं।

कभी बैंकों में, कभी सड़कों पर तो कभी बाजारों में,

लोगों का चैन, छीन ही लेते हैं।

अमीरों की प्रतिस्‍पर्धा में कोई टिक पाये,

किसी की क्‍या मजाल है ?

प्रदूषण फैलाने वालों की करतूतों से,

बेचारे शहतूत बदहाल हैं।

 

देश के हर एक जिले में जिन्‍दगी बहुत बदहाल है।

यदि आप चाहें तो हसदेव नदी के रेत पर,

क्रिकेट का मैदान बना सकते हैं।

कभी अल्‍हड़ता के साथ बहते नालों पर,

आज फुगड़ी खेल सकते हैं।

उबलते चावल का एक दाना काफी है, जनाब!

चावल की दशा बताने को।

यहां तो मैंने अनेक दानों को छुआ है,

और भी तो लोग हैं, बातें बताने को।

 

आदिवासियों पर छंटनी की तलवार लटकती,

किसी को कहां खयाल है ?

सड़कों पर मौत दौड़ती, रो-रो कर,

यमराज का भी बुरा हाल है।

देश के हर एक जिले में जिन्‍दगी बहुत बदहाल है।

बड़ी मुश्‍किल से शहर में,

जी रहे हैं लोग।

 

धूल को खाते और धुंआं को

पी रहे हैं लोग।

मजे में या मजबूरी में, होठों को-

सीते लोग, बहुत कच्‍चे हैं।

ढोल, नगाड़े, पिचकारी चुप,

मन मार के बैठे, हुड़दंगी बच्‍चे हैं।

होली के रंगों पर पानी का पहरा,

गोरी के गाल बदरंग, बेहाल है।

 

जले पर नमक छिड़कते हो,

बस इसी बात का तो मलाल है।

देश के हर एक जिले में जिन्‍दगी बहुत बदहाल है।

और आप पूछते हैं कि कोरबा जिले का क्‍या हाल है ?

2 blogger-facebook:

  1. धूल को खाते और धुंआं को

    पी रहे हैं लोग।

    मजे में या मजबूरी में, होठों को-

    सीते लोग, बहुत कच्‍चे हैं।

    रवि जी सामाजिक हालत को व्यक्त करते सुन्दर रचना -बधाई हो

    उत्तर देंहटाएं
  2. amita kaundal2:12 am

    sach ko darshati sandeshmay sunder kavita
    badhai
    amita

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------