गुरुवार, 14 अप्रैल 2011

अनन्त आलोक की ग़ज़लें

गजल 1

देखते ही उनको हम यूं खो गये

खयालों ही खयालों में उनके हो गये।

 

खूब मेहमां नवाजी करते है आप

हमें घर बुलाया और खुद सो गये।

 

वो आए हमारा हाल ए मर्ज पूछने

देखते ही हमको वो रो - रो गये।

 

ठीक नही हालात आजकल शहर में

न लौटे अब तलक सुबह जो गये।

 

यूं तो भाई का रिश्ता है अपना ‘‘अनन्‍त''

बीज ऐ नफरत मगर वो खुद ही बो गये।

---

 

ग़ज़ल 2

मेघ घिर आए और रात हो गई

देखते ही देखते बरसात हो गई।

 

उठी नजर उनकी हम से मिली

नजर ही नजर में बात हो गई।

 

मैं भी अजनबी तुम भी अजनबी

वक्‍त ने मिलाया मुलाकात हो गई।

 

मेह बरसा खुदा की रहमत हुई

उजली - उजली ये कायनात हो गई।

 

यूं फिसलते न थे हम हर कहीं

बातों - बातों में जाने क्‍या बात हो गई।

---

 

ग़ज़ल 3

जबसे तेरी जुल्‍फों का साया मिला है

मुझसे बड़े अदब से हर अपना पराया मिला है।

 

यूं तो हर मोड़ मे है दूध के धुले यहां

न अब तलक कोई दूध का नहाया मिला है।

 

बडे़ अरमानों से दिया था हमने ये दिल उनको

अब तलक दिल मिला न किराया मिला है।

 

कम ही मिले मुझे जानवरों के सताये आदमी

जो भी मिला आदमी का सताया मिला है।

 

थमे न दस्‍त प्‍याला उठा लिया खुद ब खुद

मुझे न कोई किसी का पिलाया मिला है।

 

होता है ये कम्‍बख्‍त इश्क खूबसूरत बलाओं से ही

न किसी बद सूरत पे दिल आया मिला है।

 

ताउम्र निभा सके जो साथ तेरा ‘अनन्‍त'

न ऐसा कोई हमको हम साया मिला है।

----.

2 blogger-facebook:

  1. कम ही मिले मुझे जानवरों के सताये आदमी

    जो भी मिला आदमी का सताया मिला है।

    ताउम्र निभा सके जो साथ तेरा ‘अनन्‍त'

    न ऐसा कोई हमको हम साया मिला है।

    ज़िन्दगी की सच्चाईयों से मिलवा दिया।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वंदना जी,गजलों पर प्रतिक्रिया के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------