शुक्रवार, 15 अप्रैल 2011

सुरेन्द्र अग्निहोत्री की कविता

क्‍या कभी आपको

यह आया है ख्‍याल

कैसे कैसे जोड़ा जाता है

अपने लिये माल

इसका गणित समझना

मैने जाना अभी हाल

जिसने छोड़ दिये है

कई सारे सवाल?

 

कुछ बिके हुये

कुछ टिके हुये

बिके हुये हो गये मालामाल

टिके हुये रहे फटे हाल

एक बार फिर

वही खड़ा हुआ सवाल?

 

बिक कर जब

दूर हो सकते सन्‍ताप

तो क्‍यों नही करते

एक बार यह पाप

यह बात अक्‍सर

घरों में दोहराई जाती है

लेकिन कुछ को

समझ नही आती है

वह तो आक्रोश में

हाथ ऊपर उठाकर तैयार है

 

गैर बराबरी से

लड़ने के खातिर

भट्‌टी में तपने को

मेहनत से

पूरा करने तैयार है

आँखों में पलते सपने को

---

-सुरेन्‍द्र अग्‍निहोत्री

राजसदन-120/132

बेलदारी लेन लालबाग

लखनऊ

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------