पुरुषोत्तम व्यास की कविताएँ

-----------

-----------

DSCN4042 (Custom)

रसमय

रस रस

हर क्षण में

रस रस हर बात में ।

 

सुनता - कोई

कुछ – कहें

रस घोल जाता जीवन में ।

 

रसमय शाम सुहानी

रोम-रोम पुलकित – सा

गीत-कविता

रसमय हो जाती-कल्पना ।

 

नयन मूंद कर

मन-करता

डूबा – रहूँ रसमय पल में ।

 

सुमन-सुमन महक महक रहें

बह रही समीर सुहानी

मन करता

चल पडों बहुत दूर तक

रसमय शाम सुहानी

रस रस हर क्षण क्षण में ।

 

 

चाँदनी रात

मेरा चुपचाप सा बैठा रहना

याद मे खोये रहना

अब आदत हो गयी ।

 

हाथ में कलम हो

रजनीगंधा के फूल

सुमन और सुगंध

का अजीब स्नेह

अब आदत हो गयी ।

-----------

-----------

0 टिप्पणी "पुरुषोत्तम व्यास की कविताएँ"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.