बुधवार, 13 अप्रैल 2011

सतीश चन्द्र श्रीवास्तव की लघुकथा - मनी प्लांट

सुबह अभी खुलकर नहीं हुई थी। उजाले ने अभी केवल अंगड़ाई ही ली थी। गुलाबी जाडे का मौसम था। नमन जी ब्रश करते हुए अपने मकान के लॉन तक चले आए। उनके घर के बगल में ही मि. रमन जी का घर था। नमन जी ने देखा कि रमन जी का मनी प्लांट पौधा काफी हरा भरा हो गया है। संयोग से उसी समय रमन जी दिखायी पड़ गए। नमस्कार की औपचरिकता पूरी हुई तो नमन जी ने रमन जी से पूछा, "अरे भाई, आपका मनी प्लांट तो काफी बड़ा हो गया जबकि मेरा तो वैसे का वैसा ही पड़ा है। मुझे याद है कि हम दोनों ने इसे एक साथ लगाया था। आखिर ये चमत्कार क्या है? रमन जी ने हिकारत भरी नज़र से नमन जी के प्लांट को देखा और मुस्कुराते हुए बोले-" अरे कुछ केयर भी करते हो या बस यूं ही ...." उन्होंने वाक्य को बीच में कुछ ऐसे छोड़ा जैसे कोई अपनी गाड़ी न्यूट्रल गेयर में डाल कर चलता छोड़ दे।

"अरे भाई खाद डालता हूँ, पानी डालता हूँ और धूप हवा तो वैसे ही मिल रही है और क्या चाहिए पेड़ के लिए।’ नमन जी असमंजस की स्थिति में बोले।

"कौन सी खाद डाली है।’ पूछा रमन जी ने ।

"अरे वही जो सब डालते है।’ रमन जी का जवाब था ।

"यही तो गड़बड़ है न । अरे भाई यह मनी प्लांट है , इसमें साधारण खाद काम नहीं करेगी । इसमें डालो चरित्र की खाद और चरित्र जितना सड़ा होगा उतनी बढ़िया खाद होगी । फिर देखो तुम्हारा मनी प्लांट भी कितनी तेजी से बढ़ता है । और ये ताज़ा हवा पानी सब बेकार है,थोडी सी रिश्वत की हवा दो, ग़रीबों के हिस्से की धूप खिलाओ तब देखो तुम्हारा मनी प्लांट कैसे खिलता है ।मगर सुनो यार ये सब राज़ की बातें हैं,किसी से बताना नहीं ।’ रमन के मुख पर कुटिल मुस्कान थी और नमन जी की आँखें आश्चर्य से चौडी हो गयी ।

 

--

सम्प्रति :- मण्डल रेल प्रबन्धक कार्यालय, इलाहाबाद

सतीश चन्द्र श्रीवास्तव

५/२ए रामानन्द नगर

अल्लापुर, इलाहाबाद

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------