पुरूषोत्तम व्यास की कविता

अनुराधा

DSCN4150 (Custom)

टहलते टहलते

सोचते

शांत सी सरिता

आमों के बाग

रस भरी कोयल

कल्पना भी

कितनी संतुलित

कितनी आनंदमय

नाजुक सी पंखुड़ियों की तरह

अनुराधा

हंसती हुई

पलकों के किनारों पर

प्यार  खिलता हुआ

लालसा

हर दुख का कारण

रंगो की तरह

बदलते विचार

पूछने पर

बतलायेगें

कितने दिवस

कितने निशां

ह्दय पर

मोती मोती

शांत सा मन

पल्लव

कलियाँ और पुष्प

जीवन चक्र

बहती हुई सुगंध

स्मरण

कर पाओ तो

कर लो विश्लेषण -

अनुराधा

अपनी मन की बात कह पायेगी।

--

संपर्क

pur_vyas007@yahoo.com

-----------

-----------

0 टिप्पणी "पुरूषोत्तम व्यास की कविता"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.