एस. के. पाण्डेय की कविता - मानो या न मानो

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

Image094 (Custom)

पशुओं की सीख: मानो या न मानो

ओ मानव ! हमको पशु कहते खुद मानव कहलाते हो ।

लेकिन मानव ! कुछ न मानो यह सिद्धांत चलाते हो ।।

 

माता-पिता, गुर, गो, ईश्वर, माँ-बहन भी भूले जाते हो ।

बचपन में जो तुझको पालें, अनाथालय भिजवाते हो ।।

 

गो माता का मांस तलक क्या नहीं आज खा जाते हो ।

सदगुर को भी नहीं आज क्या ठेंगा सभी दिखाते हो ।।

 

ईश्वर कौन ? कहाँ ? मैं ही, खुद को ईश्वर बतलाते हो ।

मानव ! जब कुछ भी न मानो क्यों मानव कहलाते हो ।।

 

मानव तुम मानव की दुर्गति करते और कराते हो ।

धन-दौलत की बात ही क्या जबरन तन पे छा जाते हो ।।

 

जब तक पड़ती नहीं शीस पे हँसते और हँसाते हो ।

अपने ऊपर पड़ते तुम भी जोर-जोर चिल्लाते हो ।।

 

दया धरम अरु भले करम से मुँह मोड़े ही जाते हो ।

हम पशु थे अरु आज भी हैं, तुम दिन-दिन गिरते जाते हो ।।

 

मानव ! मानो या न मानो, पशुता को भी लजाते हो ।

मानव ! जब कुछ भी न मानो क्यों मानव कहलाते हो ।।

-----

डॉ. एस. के. पाण्डेय,

समशापुर (उ. प्र.) ।

http://www.sriramprabhukripa.blogspot.com/

*********

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "एस. के. पाण्डेय की कविता - मानो या न मानो"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.