शनिवार, 9 अप्रैल 2011

हिमकर श्याम की ग़ज़ल - सुलगती रेत पे भटका किए उम्र भर...

ग़ज़ल

Image007 (Custom)

मुक्‍तसर-सी जिन्‍दगी हसरतों में निक़ल गयी

कुछ उम्‍मीदों पे और कुछ आहों में पल गयी

 

तकदीर लेके गयी जिधर उधर ही हम गये

कभी बहलाया हमे तो कभी चाल चल गयी

 

कांधे पे उठाये रहे हम अरमानों की गठरियां

वक्‍त की ठोकरों से हर चाहत मचल गयी

 

खाक-ए-तम्‍मना का वो मातम फिजूल था

दिल की बर्बादियां कई सांचों में ढ़ल गयी

 

सुलगती रेत पे भटका किये जो उम्र भर

मेहरबां हुई हयात जब तो उम्र छल गयी

 

लबों पे आत-आते रह गयी रक्‍से-तबस्‍सुम

सांसों के तरन्‍नुम पे गमे दुनिया बहल गयी

---

हिमकर श्‍याम

द्वारा ः एन. पी. श्रीवास्‍तव

5, टैगोर हिल रोड,

मोराबादी, रांचीः 8

झारखंड।

परिचय ः वाणिज्‍य एवं पत्रकारिता में स्‍नातक। प्रभात खबर और दैनिक जागरण में उपसंपादक के रूप में काम। विभिन्‍न विधाओं में लेख वगैरह प्रकाशित। कुछ वर्षों से गंभीर बीमारी से जंग। फिलहाल इलाज के साथ-साथ स्‍वतंत्र रूप से रचना कर्म।

4 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------