प्रभुदयाल श्रीवास्तव की एक बाल कविता

आत्मोत्थान‌

पुस्तक और किताबों का है

अलग एक विग्यान‌

ध्यान लगाने से मिलता है

अच्छा अच्छा ज्ञान|

 

बड़े बड़े ऋषी मुनि यहाँ के

थे भारत की शान‌

सिखलाया सारी दुनिया को

अलग आत्म विज्ञान |

 

बाहर के अध्यन से मिलता

वाह्य मान सम्मान‌

किंतु आत्म अध्यन से होता

आत्म शांति का भान |

 

आत्म शांति मानी गई

सभी सुखों की खान‌

जिसने इसको पा लिया

हुआ आत्म उत्थान |

1 टिप्पणी "प्रभुदयाल श्रीवास्तव की एक बाल कविता"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.