गुरुवार, 28 अप्रैल 2011

नागेश पांडेय 'संजय' की बाल कविता - आओ पेड़ लगाएँ

Image017 (Custom)

सारे जग के शुभचिन्तक,

ये पेड़ बहुत उपकारी।

 

सदा-सदा से वसुधा इनकी

ऋणी और आभारी।

 

परहित जीने-मरने का 

आदर्श हमें सिखलाएँ।

फल देते, ईंधन देते हैं,

देते औषधि न्यारी।

 

छाया देते, औ‘ देते हैं

सरस हवा सुखकारी।

आक्सीजन का मधुर खजाना

भर-भर हमें लुटाएँ।

 

गरमी, वर्षा, शीत कड़ी

ये अविकल सहते जाते,

लू, आँधी, तूफान भयंकर

देख नहीं घबड़ाते।

 

सहनशीलता, साहस की

ये पूजनीय  प्रतिमाएँ।

पेड़ प्रकृति का गहना हैं,

ये हैं श्रृंगार धरा का।

 

इन्हें काट, क्यूँ डाल रहे

अपने ही घर में डाका।

गलत राह को अभी त्याग कर

सही राह पर आएँ।

 

--

nagesh photo

डॉ. नागेश पांडेय 'संजय'

निकट रेलवे कालोनी ,  सुभाष नगर  , 

शाहजहाँपुर- 242001.  (उत्तर प्रदेश, भारत) 

परिचय 

डा. नागेश पांडेय 'संजय' , जन्म: ०२ जुलाई १९७४ ; खुटार ,शाहजहांपुर , उत्तर प्रदेश . माता: श्रीमती निर्मला पांडेय , पिता : श्री बाबूराम पांडेय ; 

शिक्षा : एम्. ए. {हिंदी, संस्कृत }, एम्. काम. एम्. एड. , पी. एच. डी. [विषय : बाल साहित्य के समीक्षा सिद्धांत }, स्लेट [ हिंदी, शिक्षा शास्त्र ] ; 

सम्प्रति : प्राध्यापक एवं विभागाद्यक्ष , बी. एड. राजेंद्र प्रसाद पी. जी. कालेज , मीरगंज, बरेली . 

बाल साहित्य के अतिरिक्त बड़ों के लिए भी गीत एवं कविताओं का सृजन . प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओं में बच्चों के लिए कहानी , कविता , एकांकी , पहेलियाँ और यात्रावृत्त प्रकाशित . रचनाओं के अंग्रेजी, पंजाबी , गुजराती , सिंधी , मराठी , नेपाली , कन्नड़ , उर्दू , उड़िया आदि अनेक भाषाओं में अनुवाद . अनेक रचनाएँ दूरदर्शन तथा आकाशवाणी के नई दिल्ली , लखनऊ , रामपुर केन्द्रों से प्रसारित .

प्रकाशित पुस्तकें

आलोचना ग्रन्थ : बाल साहित्य के प्रतिमान ;

कविता संग्रह : तुम्हारे लिए ;

बाल कहानी संग्रह : १. नेहा ने माफ़ी मांगी २. आधुनिक बाल कहानियां ३. अमरुद खट्टे हैं ४. मोती झरे टप- टप ५. अपमान का बदला ६. भाग गए चूहे ७. दीदी का निर्णय ८. मुझे कुछ नहीं चहिये ९. यस सर नो सर ;

बाल कविता संग्रह : १. चल मेरे घोड़े २. अपलम चपलम ;

बाल एकांकी संग्रह : छोटे मास्टर जी

सम्पादित संकलन : १. न्यारे गीत हमारे २. किशोरों की श्रेष्ठ कहानियां ३. बालिकाओं की श्रेष्ठ कहानियां

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------