मिलन चौरसिया की कविता : ऐसा हुआ न कभी पहले

DSCN4363 (Custom)    
दिल मेरा सम्हाले नहीँ सम्हले, 
ऐसा हुआ ना सनम कभी पहले ।
  दिल मेरा ये मेरा नहीँ लगता, 
इसपे जोर भी मेरा नहीँ चलता, 
क्या जतन करुँ कैसे ये सम्हले । 
ऐसा हुआ ना सनम कभी पहले ॥ 
 
अब ख्वाबोँ मेँ आने लगे हो,  
आग दिल मेँ लगाने  लगे हो,  
तेरी बातोँ से अब नहीँ बहले । 
ऐसा हुआ ना सनम कभी पहले ॥ 
 
बोलो कैसे फरेब दूँ मैँ इसको, 
कभी दे ना सका जो मैँ किसी को, 
क्या करुँ कैसे पगला ये सम्हले ।
ऐसा हुआ ना सनम कभी पहले ॥ 
 
नादाँ है हकीकत ना समझे, 
चाँद मांगे ये कीमत ना समझे, 
शायद ठोकर लगे तो ही सम्हले । 
ऐसा हुआ ना सनम कभी पहले ॥             
 
(मिलन चौरसियाः मऊःउत्तर प्रदेश )

0 टिप्पणी "मिलन चौरसिया की कविता : ऐसा हुआ न कभी पहले"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.