बुधवार, 18 मई 2011

एस के पाण्डेय की लघुकथा - भाई का प्रेम

bhai ka prem

भाई का प्रेम

रामू की पत्नी रजनी रामू से अक्सर कहीं सफर पर ले चलने को कहा करती थी। महीनों बाद उसने रामू से फिर कहा “अब तक मुझे कभी आप के साथ सफर करने का मौका नहीं मिला। मेरी दिली तमन्ना है कि कभी आपके साथ कहीं चलूँ और रास्ते में आप से बोलते-बतलाते सफर का आनन्द उठाऊं। सच में बहुत अच्छा लगेगा। आप हमेशा कोई न कोई बहाना बनाकर टालते रहते हैं। कभी घर का डर तो कभी गाँव का। मुझे मायके से लाना होता है, तो भी किसी न किसी को भेज देते हो। आज तक खुद लाने भी नहीं गए।“

रामू बोला “यह शहर तो है नहीं कि जब मन में आये तो कहीं पिकनिक पर निकल जाओ। कहीं नहीं तो कम से कम मार्केटिग कर आओ, सिनेमा चले जाओ अथवा किसी पार्क में ही थोड़ी देर घूम आओ। यहाँ घर वालों से ज्यादा डर बाहर वालों का लगता है। गाँव वाले तरह-तरह की बातें करने लगते हैं।“

रजनी बोली “ कितनी बार सुनाओगे यह कहानी। बहुत सुन चुकी हूँ।“ रामू बोला “कोशिस करूँगा कि तुम्हारी यह इच्छा जल्दी ही पूरी कर दूँ।“

रामू मौका तलाशता रहा और आखिरकार रजनी को खुश करने के लिए प्रोग्राम बना लिया। रजनी मायके गई हुई थी। उसे लाने पहुँच गया। लेकिन सात घंटे का सफर यूँ ही बीत गया। रजनी रामू से दो–चार बातें मुश्किल से ही कर सकी । उसे रामू से बात करने का समय ही नहीं मिला। क्योंकि ट्रेन की उसी बोगी में उसका सगा नहीं सही पर ममेरा भाई मिल गया था।

----------

डॉ. एस. के. पाण्डेय,

समशापुर (उ. प्र.)।

http://www.sriramprabhukripa.blogspot.com/

*********

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------