रविवार, 15 मई 2011

सुभाष नीरव के बारह हाइकु



(1)
बहता पानी
सुनाता है सबको
एक कहानी।

(2)
सखी री सुन
दुख यूँ खाए जैसे
गेहूँ को घुन।

(3)
बापू की चिंता
कैसे ब्याहे बिटिया
सर पे कर्जा।

(4)
माटी की गंध
अपने वतन की
खींचे मन को।

(5)
अपना दु:ख
पहाड़ – सा लगता
ग़ैर का बौना।

(6)
किसका डर
संकट में संग हो
तुम अगर।

(7)
मन में कुछ
होंठों पर कुछ, है
छल- प्रपंच।



(8)
बीज जो बोये
घृणा के तब, प्रेम
कहाँ से होये।


(9)
खोजा बाहर
था अपने अन्दर
कस्तूरी सम।

(10)
दु:ख में तुम
इस तरह मिले
ज्यूँ रब मिले।


(11)
ओस की बूंदें
खूब रोया रात में
आकाश जैसे।


(12)
जग है सूना
प्रियतम के बिन
दु:ख है दूना।

00

373, टाइप-4, लक्ष्मीबाई नगर
नई दिल्ली-110023
दूरभाष : 09810534373
ई मेल : subhashneerav@gmail.com
ब्लॉग्स:
www.kathapunjab.blogspot.com
www.setusahitya.blogspot.com
www.vaatika.blogspot.com
www.gavaksh.blogspot.com
www.srijanyatra.blogspot.com

10 blogger-facebook:

  1. एक से बढ़कर एक
    अपने में पूर्ण
    जैसे कहते एक कहानी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सभी हाईकू बहुत बढ़िया , एक से बढ़ कर एक

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुभाष नीरव के सभी हाइकु प्रभावित करने वाले हैं । जो अच्छी कविता रचते हैं , वे अच्छे हाइकु भी लिख सकते हैं । नीरव जी ने अपने इन हाइकुओं से सिद्ध कर दिया है -

    दु:ख में तुम
    इस तरह मिले
    ज्यूँ रब मिले।

    ओस की बूंदें
    खूब रोया रात में
    आकाश जैसे।

    उत्तर देंहटाएं
  4. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 17 - 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. सभी हाइकू अच्छे हैं लेकिन पहले वाले दो हाइकू अति सुंदर क्योंकि इनमे काफिये का पूरा ध्यान रखा गया है .... बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  6. अमिता कौंडल3:59 am

    सभी हाइकु बहुत सुंदर हैं

    बापू की चिंता
    कैसे ब्याहे बिटिया
    सर पे कर्जा।

    माटी की गंध
    अपने वतन की
    खींचे मन को।

    अपना दु:ख
    पहाड़ – सा लगता
    ग़ैर का बौना।
    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति है आपके हाइकु हमेशा ही सुंदर होते हैं.
    बधाई
    सादर,
    अमिता कौंडल

    उत्तर देंहटाएं
  7. अमिता कौंडल4:00 am

    सभी हाइकु बहुत सुंदर हैं

    बापू की चिंता
    कैसे ब्याहे बिटिया
    सर पे कर्जा।

    माटी की गंध
    अपने वतन की
    खींचे मन को।

    अपना दु:ख
    पहाड़ – सा लगता
    ग़ैर का बौना।
    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति है आपके हाइकु हमेशा ही सुंदर होते हैं.
    बधाई
    सादर,
    अमिता कौंडल

    उत्तर देंहटाएं
  8. आशा जी, आपने तो बहुत सुन्दर हाइकु लिख दिया मेरे हाइकु की प्रशंसा में, आभारी हूँ। देवेन्द्र पांडे, संगीता जी, हिमांशु जी, एम वर्मा और अमिता जी का भी मैं बहुत आभारी हूँ कि जिन्होंने मुझ नौसिखिये हाइकुकार के हाइकु पसंद किए और अपनी राय से अगगत कराया।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------