अख़्तर होशियारपुरी की ग़ज़लें

image

कानों में सदाऐं

 

कानों में सदाऐं गूंजती हैं

हाथों की लकीरें_ बोलती हैं

 

चेहरे संजीदा हो गए हैं

अब तो आंखें भी सोचती हैं

 

राहों के अंधेरे छट गये हैं

और राहरौओं को पूछती हैं

 

लम्हों की जुदाइयों में सदियाँ

अपने महवर पे घूमती हैं

 

उड़ती हुई तितलियाँ चमन में

मुड़मुड़ के गुलों को देखती हैं

 

जाती हुई दिल गिरिफ़्ता घड़ियाँ

अपने ज्रख्मों को चाटती हैं

 

और आबे रवाँ की तुंद मौजें

क्या जाने किसे पुकारती हैं

 

आंखें तेरी मुंतजिर हैं शायद

सोते में भी शब को जागती हैं

 

शाखें पेड़ों से कट के ‘अख़्तर’

पेड़ों ही का लम्स चाहतीं है

 

--

अगरचे लम्हों के आगे

 

अगरचे लम्हों के आगे दम तोड़ती सदी है

मगर ये लम्हा भी दीदनी है कि रफ़्तनी है

 

मैं पूछता फिर रहा हूँ चीजों का भाव क्या है

कि आज फिर मेरी जात नीलाम हो रही है

 

हवा से मौसम के पत्ते टूटे कि ख्वाब टूटे

हवा से ख्वाबों में फिर भी रंगो की रौशनी है

 

जमाना बारिश में छतरियाँ तानता है लेकिन

ये इक हवेली जो धूप में भी टपक रही है

 

समुदरों में हवा की गिरहों को कौन खोले

कि नाव कागज की बहते बहते ठहर गयी है

 

मैं जिससे मिलकर हवा के पैकर में ढल गया हूँ

वो जब पुकारे तो यूं लगे कोई अजनबी है

 

घरों में चिड़ियों के घोंसले हैं और उनके अंदर

मैं सुन रहा हूँ कि अपनी आवाज गूंजती है

 

मुसाफतों में मुसाफतों का वुजूद बिखरा

सफर की राहों में धूल राहों की अट गयी है

 

हवा के इन बेतनाब खेमों में रहने वालों

तुम्हारी बस्ती समुदरों से घिरी हुई है

 

जहाँ के मंजर बदल चुके हैं बदल रहे है

मगर दरख्तों के बीच ‘अख्तर’ वही गली है

---

-----------

-----------

2 टिप्पणियाँ "अख़्तर होशियारपुरी की ग़ज़लें"

  1. दोनों ग़ज़लें अच्छी....

    उत्तर देंहटाएं
  2. उम्दा ग़ज़लियात, अगर मैं तुलना करूं तो दूसरी ग़ज़ल मुझे ज़ियादा अच्छी लगी।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.