मंगलवार, 31 मई 2011

गोकुल खिडिया विरचित (हिंदी प्रेमियों एवं विद्यार्थियों के लिए उपयोगी) पर्याय प्रसून

गोकुल खिडिया विरचित  (हिंदी प्रेमियों एवं विद्यार्थियों के लिए उपयोगी) पर्याय प्रसून
 

कवि परिचय : - 
 

नाम : - गोकुल खिडिया
  माता का नाम : - ज्ञान कंवर
  पिता का नाम : - डिंगळ के प्रख्यात कवि स्वर्गीय श्री सवाई दान जी चारण
  जन्म तिथि : - ३१/०८/१९६१
  प्रमुख रचनाएं : - पन्ना तुझे प्रणाम , झिणु बायरो , राषभ रासा , रीढ़ थंभ है पटवारी ,
  हड़ताल , जीवन को है सार जवानी , जीवन घट


  पता : - ग्राम पोस्ट - जसवंतगढ़ , जिला - नागौर (राजस्थान)          

                

 

-गजानन-

लम्बोदर गणपति गणनायक,गिरिजासुतगणेश!

विनायक करिवरवदन , रक्षा करो हमेश !!


                         -इन्द्र-

इन्द्र पुरन्दर सुरपति,सचिपति शक्र सुरेश !

वासव मघवा बलागति,दुश्च्यवन ही देवेश !! 






                              

-सूर्य-

अंशुमाली अर्क आदित्य,सूरज सविता सूर !

भानु तरणि रवि भास्कर,दिनकर जग का नूर!!१!!

पूषण अरुण पतंग कर,दिवाकर या दिनेश !

मार्तण्ड सूर्य बिन ,जीवन रहे ना शेष !!२!! 





                                         -धरती-

वसुधा वसुमति वसुंधरा ,धरती रसा धरणी धरा !

पृथ्वी पुहुमी अवनि अचला,भूमि भू मही जगति इला !!



                                 -चाँद- 

सोम इंदु विधु सुधाकर,मयंक चन्द्र मृगांक !

हिमांशु राजनीपति कहो,शशि राकेश शशांक !!




                             

-आकाश-

आकाश अंतरिक्ष गगन,अम्बर नाभासमान !

व्योम शून्य  खगोल वियति,अनंत अपार मान  !!


                           

   -संसार-

दुनियां लोक विश्व दूनी,जग व  जगत संसार !

भव सागर से भगवती,करना बेड़ा पार !!


                                -घर-

आशय आश्रय आयतन,आलय घर आवास !

शाला गृह  व गेह सदन,निलय निकेत निवास !!




                                रात

रात निशा रजनी तमी , रात्रि राका रैन !

यामा क्षपा व यामिनी , नींद विभावरी नैन !!

                               -पेड़-

तरवर वृक्ष विटप तरु , दारू दरखत पेड़ !

गाछ लगावो गांव में , चोखा लागे चेड !! 

                             -प्रात-

शुबह सवेरा भोर कह , प्रातः या प्रभात !

इस वेला से होत है , शुभदिन की शुरुआत !!

                                 -समुद्र-

सिन्धु सागर व सुधानिधि , पयोधि पारावार !

नदीपति कुस्तुभ नीरधि , अर्णव निधि अकुपार !!

                             -बादल-

बादल अभ्र अर्णोद घटा , जलद मेघ जलवाह !

वातध्वज वारिद विहंग , अर्बुद घन उदवाह !! 

                                 -पानी-

पानी पय जल सलिल हरि , उदक अम्बू तोय !

जीवन नीर वारि बिना , जीवित रहे ना कोय !!

                                 -कमल-

सरोज सरसिज शतदल , उत्पल अब्ज अरविन्द !

पंकज पद्म राजीव कंज की , शीतल मंद सुगंध !!

                              -आँख-

आँख लोचन नेत्र अक्षि , दृग चक्षु दोय !

नयन देखी परसरामजी , कदे न झूठी होय !!

                               -आग-

वैश्वानर शुचि विभावसु , अनल हुतासन आग !

पावक वन्हि  कृशानु पवि , दहन अग्नि बेदाग !!  



                                -शरीर-

गात कलेवर बदन तन ,वषमेन  वपु विग्रह!

शरीर काया संहनन , मूर्ती मानव देह !!

                                 -सफ़ेद-

शुक्ल शुभ्र शुचि श्वेत सित , अर्जुन धवल अवदात !

वलक्ष गौर पांडर विषद , उज्ज्वल श्येत कहात !!

                              -पक्षी-

पक्षी द्युचर द्विज पंखेरू ,पतत्री विहग पतंग !

शकुन्त खग अंडज शकुन , कपोत मुर्ग कलिंग !!

                          -पपीहा-

चातक तोतक नाभांबुप , पिंगल स्तोक पिकंग !

पपीहा धराट हुडुक , कपिन्जाल व सारंग !!

                         -कौआ-

वायस बलिपुष्ट द्युकारी , कौशिकारी लून्ठाक !

आत्मघोष एकांक्ष शिव , करटक कारव काक !!

                            -तोता-

रक्ततुंड राजू सुआ , किंकरात शुक कीर !

पोपट पलासन मिट्ठू , खावत दाड़िमचीर !!

                                -मोर-

नीलकंठ केकी कलापी , विषभक्षी सारंग !

मोर कंठी मयूर का  कितना सुन्दर रंग !!

                            -हाथी-

हाथी नाग मतंग , सिंदूर गज हस्ती हरि !

कुंजर कुम्भी गयन्द , दंती वारण पील करि !!

                               -घोड़ा-

घोड़ा बाजी हय घोटक , सैन्धव अश्व तुरंग !

ताज़ा जिनके है तुरी , वही जीतते जंग !!

                              -सिंह-

सिंह नाहर हरि केसरी , सार्दुल शेर सटाल !

नखी नागोखा पञ्चनख , लंकी  मृगेंद्र व्याल !!

                              -हिरन-

मृग एण मृडीक आहू , कायरह्रदय कुरंग !

वातायु जंघाल हरिण , व सुलोचन सारंग !!

                                 -सांप-

व्याल फणि सांप विषधर ,भमंक उरग भुजंग !

चक्षुश्रवा सर्प मणिधर , अहि हरि नाग पनंग !!

                            -क्रोध-

क्रोध कोप गुस्सा अनख , उत्तेजना आक्रोश !

क्षोप विक्षोप रीस रुष्टि , रोद्र असूया रोष !!

                          -मदिरा-

मदिरा मधु मय माधुरी , सूरा हाला शराब !

दारू मद्य गंधमादिनी , आसव पान ख़राब !!

                             -धतुरा-

कनक मदन मातुल कितव , मन्दार कनंकाय !

शिवप्रिय धूर्त शैव सिद्ध , धतूरा के पर्याय !! 

------------------------- - -इच्छा-

--इच्छा ईहा अभीप्सा , चाहत आकांक्षा चाव !

- वांछा मनसा वासना , मनोरथ मनोभाव !!

- ------------------------- - - -अभिप्राय-

--मंशा मानी मायना , भाव कथ्य भावार्थ !

-- तात्पर्य अभिप्राय तथा , आशय मतलब अर्थ !!

                             -पुत्र-

सुत बेटा आत्मज सुअन , पुत्र तनय अरु पूत !

लाल नंदन या  डीकरा  , सेवा करे सपूत !! 

1 blogger-facebook:

  1. अति सुन्दर एवं लाभकारी....सिर्फ़ पर्यायवाची के लिये ही नहीं यह एक प्रथा की भांति( जो संस्क्रित में पहले से ही है) हिन्दी कविता-भाव को भी जन जन व क्षात्रों में प्रचलित करेगी...

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------