बुधवार, 4 मई 2011

पुरुषोत्तम व्यास की कविताएँ

जीवन से जोड़े रखता

पल भर देखा

लगा जैसे

वह मुझे टटोल रही

या

अपने आप को

मुझमें खोज रही

एक-तरंग

एक-लहर

एक-झरना

एक-गीत

प्यार भरा......।

 

स्वप्न उसी के

क्यों

किसके- लिये

किस-कारण

कितने-विचार

संभलता ही नही

एक नजर

कितनी हलचल

उथल-पुथल

पहाड़ – के

उस-पार

एक-झरना

फूट पडा

अंतरमन

सोया हुआ प्यार जगा

 

जुड -गया

खिल-गया

मिलन-

प्यार को अभिव्यक्त करना

हर एक बस में नहीं

कितने – सुंदर से

कितने अपने

खुशियाँ चहकेंगी

खुशियों मे सुगंध

खुशियों की नदियाँ

खुशियों का झरना

उसके पास जाओ

उससे कह दूं

दूर भी नहीं

पास भी नहीं

पर उसकी आंखों का प्यार

जीवन से जो़ड़े रखता.......।

 

प्यार भरी कविता

मुझे प्यार भरी कविता लिखना

मन की मधुर सी बातें

कागज में उकेरना अच्छा-लगता ।

ह्दय को ह्दय जोड

प्रणय पुष्प खिलना

सुख या दुख

अधरों पर मुस्कान भर

गीत गुनगुनाना अच्छा लगता ।

नही हैं-उसको मुझसे

प्यार-

प्यार उसी से करना अच्छा लगता......।

अगर प्रभुजी बातें-करते

अगर प्रभुजी बातें-करते

पक्षपात के आरोप उन-पर लगते

इंद्रधनुष का रंग  बदल जाता

कौवे न्याय की दुहाई  करते

तारे सब-चंद्रमा बन जाते ।

प्रभुजी बडे सहमे-सहमे रहते

अपनी मर्जी रह नहीं सकते

अगर प्रभुजी बातें-करते ।

पर, प्रभुजी बडे चतुर खिलाड़ी

चुपचाप  गगन में वह  रहते

अकसर वह सोचा करते

अगर किसी से वे  बातें करते । 

--

ई-मेल pur_vyas007@yahoo.com

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------