बुधवार, 18 मई 2011

अनन्त आलोक के हाइकु

anant alok ke haiku

1

झरना झरा

दिन रात बहता

पानी ठहरा।

2

जंगल जला

जलता जाये फिर

बारिश खाता।

3

किताबें भरी

पुस्‍तकालयों में

हैं धूल खाती।

4

महंगे ढंग

बदल न सकते

असली रंग।

5

बहुत पौधे

आंगन फुलवारी

सजावट को।

6

निश्‍चित नही

आएगा वापस वो

गया सुबह।

7

मर ही चुका

भीतर का इन्‍सान

आदमी तेरा।

8

रहना जिंदा

जिंदगी में करले

काम जिंदों के।

9

जाता कहां है

फेर कर मुंह को

करके खता।

10

रह जाएगा

स्‍वर्ण खजाना ये

धरा यहीं पे।

---

e-mail : anantalok1@gmail.com

Blogs : anantsahitya.blogspot.com

sahityaalok.blogspot.com

1 blogger-facebook:

  1. amita kaundal6:16 pm

    बहुत अच्छे हाइकु हैं बधाई
    किताबें भरी

    पुस्‍तकालयों में

    हैं धूल खाती।



    महंगे ढंग

    बदल न सकते

    असली रंग।

    सादर
    अमिता कौंडल

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------