बुधवार, 18 मई 2011

प्रभुदयाल श्रीवास्तव की कविताएँ

प्रभुदयाल श्रीवास्तव

टांगो उनको फाँसी पर‌

 

सबके सब हैं साले नेता।

उसके सब घरवाले नेता।

 

धोती कुर्ता टोपी पहने

सबके देखे भाले नेता।

 

इधर उधर बिखरे हैं ऐसे

ज्यों मकड़ी के जाले नेता।

 

जनता में फिट बैठे जैसे

दीवालों में आले नेता।

 

कहीं नहीं है भेद वर्ण का

कोई गोरे कोई काले नेता।

 

डाकू तस्कर चोर मवाली

कई कई गुंडे पाले नेता।

 

जहां कहीं भी हित दिखता है

पल में बदले पाले नेता।

 

अपने को गंगा बत‌लाते

पर हैं गंदे नाले नेता।

 

अब तो जनता खुलकर कहती

करते गड़बड़ झाले नेता।

 

कई तो अब नासूर बन चुके

मुंह के अंदर छाले नेता।

 

पल भर में अरबों खा जाते

यूं ही बैठे ठाले नेता।

 

देखो उसको नज़र गड़ाके

पता नहीं कब खाले नेता।

 

टांगो उनको फांसी पर जो

करते बड़े घुटाले नेता।

 

----.

जहर पिलाके हाल न पूछ‌

 

जहर पिलाके हाल न पूछ‌

हूं कितना बेहाल न पूछ

 

तुझसे पलभर मिलकर ही

कितना हुआ लाल न पूछ

 

किसकी ओढ़ी नेता ने

किस नेता की खाल न पूछ

 

दिन भर में कितना लूटा

डाकू ने कोई माल न पूछ

 

कांटे बिछे हैं राहों में

कैसे चले कमाल न पूछ

 

कैसे कैसे प्रश्न किये

विक्रम से बैताल न पूछ

 

प्रश्नों की दूकान जली

मुझसे कोई सवाल न पूछ

 

उत्तर की कोई आस नहीं

अब कोई प्रश्न दयाल न पूछ

---.

 

मेरी कविता
काम प्रेम श्रंगार नहीं मेरी कविता में
धूप दीप अंगार नहीं मेरी कविता में
मेरी कविता तो कल कल निश्छल सरिता है
सागर का संसार नहीं मेरी कविता में|

मंद मंद मुस्कान ओंठ पर जब आती है
हृदय दीप में ज्योति अचानक जल जाती है
तेरे सपनों से मिलते जब मेरे सपने
बिना नींद के रात अचानक ढल जाती है
जितना लेता दुगना उससे वापिस करता
कहीं कोई आभार नहीं मेरी कविता में|

देखो तो पल भर मेरी देहरी पर आकर
खड़ा मिलूंगा प्रेम द्वार पर नयन बिछाकर
कतरे कतरे में भी तुमको पुष्प मिलेंगे
देखोगी जब तन्मयता से नयन झुकाकर
अक्षर अक्षर में गूंथा है मैंने तुमको
शब्द कोई बेकार नहीं मेरी कविता में|

सागर के तल में सीपी को किसने देखा
मिटा सका है कौन कभी ब्रह्मा का लेखा
कहते हैं हाथों में सबके लिखा भाग्य है
माया ने फिर मोह जाल सिर पर क्यों फेंका
एक एक पल सच्चाई में जीना सीखा है
झूठों का संसार नहीं मेरी कविता में।

--

1 blogger-facebook:

  1. दोनों ही कवितायें बहुत खुबसूरत हैं |नेताओं के लिए तो
    जो लिखा है है, कमाल का है| दूसरी कविता में भी
    विचारों की अभिव्यक्ति खुबसूरत अंदाज़ मव की गयी
    है | आप बधाई के पात्र हैं |

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------