पुरूषोत्तम व्यास की कविताएँ

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

चंद्रमा की कविता

चंद्रमा की कविता

चंद्रमा की कविता में

चाँदनी का अनुराग अपार

पिघलते हुये हिमशिखर

चमक रहा किरणों का हार

अधरों पर मुस्कान

नयनों की जलधि छू रही पलकों को

टेढ़ा सा पथ-

चल रहा सरल सा-

उसकी छाँव ने स्वप्न देखे हजार,

सुकोमल से ह्दय पर छालों के निशान अपार

निशा

टिम-टिमा रहे तारे हजार ........।

 

पीड़ा

पीड़ा में कहराते पाया,

नयनों से आंसुओं का झरना बहता पाया ,

रोके नहीं रूक रही,

पीड़ा ह्दय की नयनों से बही पड़ी,

बीच चौराहे में जैसे ज्वालामुखी फूटता पाया ।

पीड़ा-उसको क्या थी,

उसे-मालूम थी,

पीड़ा में तो शिलाओं को पिघलता पाया ।

मैं-असहाय-सा कुछ न कर पाया,

प्रभु-से इतनी प्रार्थना कर पाया,

प्रभु-उसकी पीड़ा कम कर देना ।

--

ई-मेल  pur_vyas007@yahoo.com

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "पुरूषोत्तम व्यास की कविताएँ"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.