बुधवार, 11 मई 2011

मालिनी गौतम की कविता - मन

मन

लो फिर उठने लगे

मन में विचार

न जाने इसे

क्या हो जाता बार-बार

हर पल करता रहता

मुझ पर प्रहार।

 

अभी कुछ देर पहले

उलझा हुआ था

अपने नंग-धड़ंग भाई को

बगल में उठाए हुए

कचरा बीनती लड़की में,

तो अब हो रहा है परेशान

एक गोरैया के

बार-बार कमरे में आने-जाने पर

 

कल व्यस्त था

किसी पागल के

अनर्गल एकालाप को सुनने में

तो कभी हो जाता है व्यथित

ऊँची अट्टालिकाओं के बाहर

फुटपाथ पर सोते बच्चों को देखकर।

 

क्या करूँ ?कैसे करूँ?

क्या कर नहीं सकती मैं बंद

मन का प्रवेश द्वार ?

कितनी ही बार

इन्हें धकियाती हूँ,

खदेड़ती हूँ

छोड़ आती हूँ

भोग-विलास,आमोद-प्रमोद

व खुशियों से रेलमछेल

भूल-भुलैयाओं में।

 

कितनी ही बार

इन्हें चुनवा देती हूँ

ईंट और गारे की दीवारों में

ऊपर उगा देती हूँ

हरी मखमली लॉन/गुलाब के फूल।

 

पर हर बार ये

धुँआ बन, हवा में घुलकर

निकल आते है बाहर

चोरी-छुपे रेंग-रेंगकर

प्रवेश करने लगते हैं मेरे मन में

और जकड़ लेते हैं मुझे

अपनी ऑक्टोपसी भुजाओं में

धीरे-धीरे होते जाते हैं

परछाईंयों की तरह

बड़े/लम्बे/विशाल

और ढंक लेते हैं

मेरे वजूद को फिर एक बार........

 

डॉ.मालिनी गौतम

5 blogger-facebook:

  1. बेहतरीन कविता बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत दिन बाद आज आपकी एक और बेहतरीन रचना पढ़ने को मिली

    ईंट-गारे में चिनवाकर
    हो गया है मन
    अनारकली सा अमर
    जिस दिन थक जाएगा मन
    थम जाएगा उसका
    उलझना....
    और सुलझना भी
    इसलिए देखती रहिये कचरा बीनती
    लड़की को
    और गौरैया को भी

    उत्तर देंहटाएं
  3. धीरे-धीरे होते जाते हैं

    परछाईंयों की तरह

    बड़े/लम्बे/विशाल

    और ढंक लेते हैं

    मेरे वजूद को फिर एक बार........

    bahoot khoob...

    उत्तर देंहटाएं
  4. यद्यपि मन की चंललता पर आपकी रचना का केन्द्रीय भाव है फिर भी इसमें जो भावाभिव्यक्ति हुई है उससे सामाजिक, धार्मिक, आर्थिक तथा राजनैतिक क्षेत्र में व्याप्त विरोधाभास रेखांकित हुए हैं। यह इस रचना की सार्थकता है। पाठक के चिंतन को झकझोरने के लिए साधुवाद!
    ==============================================
    सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी

    उत्तर देंहटाएं
  5. मन होता ही है चंचल,
    कर लेता है हमें आपने वश में.
    भागता रहता है इधर-उधर,
    नहीं आता कभी मेरे बस में.

    आकाश नहीं है इसकी सीमा,
    पाताल को भी खोद के कही चला जाता है.
    भीड़ में तनहा कर देता है कभी,
    कभी तन्हाई में भी मेला लगा जाता है.

    जो नहीं बनाया भगवान ने,
    कभी उसे भी खयालो में ले आता है.
    कभी जो अस्तित्व में है,
    उसे भी नकार के चले जाता है.

    मन हमारे पास नहीं होता,
    हम मन के पास होते है.
    इस्कबस चले तो जागते है,
    इसके बस पर ही सोते है.
    *GKS

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------