बुधवार, 4 मई 2011

एस. के. पाण्डेय की बाल कविता - कबूतर और तीतर

DSCN4413 (Custom)

बच्चों के लिए: कबूतर और तीतर

(१)

कभी धरा कभी धरा के ऊपर ।

रहता-उड़ता एक कबूतर ।।

घर था उसका पेड़ के ऊपर ।

जिस पर रहता था एक तीतर ।।

(२)

दोनों सुंदर दोस्त निराले ।

एक-दूजे के थे रखवाले ।।

पास नदी में रोज नहाते ।

इधर-उधर से चारा लाते ।।

(३)

दोस्ती दोनों खूब निभाते ।

साथ-साथ थे आते-जाते ।।

तरह-तरह की दोनों बातें ।

करते रहते नहीं अघाते ।।

(४)

उड़ते-उड़ते जब थक जाते ।

एक-दूजे को वो सहलाते ।।

खाते, पीते, सोते, गाते ।

खुश होकर दिन-रात बिताते ।।

(५)

एक दिन एक बहेलिया आया ।

चुपके-चुपके तीर चलाया ।।

लगा कबूतर को चिल्लाया ।

तीतर भी अतिशय घबराया ।।

(६)

बोला भैया खाते गोस्त ।

इससे मारा मेरा दोस्त ।।

जीना अब मेरा बेकार ।

मुझको भी तुम डालो मार ।।

(७)

पशु-पक्षी को खाते मार ।

अपनों से तुम करते प्यार ।।

कोई जो दे इनको मार ।

दुःख न होगा करो बिचार ।।

(८)

बढ़ता गया उसका संताप ।

मर गया तीतर अपने आप ।।

जीव हत्या से होता पाप ।

दुःख में देते होंगे शाप ।।

अपने बच्चों के माँ-बाप ।

होते ये भी छोड़ो पाप ।।

--------

डॉ एस के पाण्डेय,

समशापुर, उ. प्र. ।

http://www.sriramprabhukripa.blogspot.com/

*********

1 blogger-facebook:

  1. बहुत ही करूणामय अभिव्यक्ति!!

    अनंत आभार, पाण्डेय जी!!

    इस सार्थक व कोमल सम्वेदना की प्रस्तुति के लिये रवि जी आपका भी आभार!!

    _________________________

    सुज्ञ: जीवन का लक्ष्य

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.