रविवार, 5 जून 2011

एस. के. पाण्डेय की बाल कविता - गर्मी

गर्मी गरमी

गर्मी

(१)

जाड़ा बीता गर्मी आई ।

कम्बल, स्वेटर और रजाई ।।

बक्से में दिया सबने डाल ।

गर्मी ने किया हाल बेहाल ।।

(२)

भट्टी बन गए कमरे सारे ।

आँगन ड्योढ़ी और ओसारे ।।

कूलर, एसी, पंखे चलते ।

बने नहीं अब कहीं निकलते ।।

(३)

धूप में मत तुम बाहर निकलो ।

सुबह-शाम ही खेलो-उछलो ।।

नहीं तो लग जायेगा लूक ।

लपटें देतीं तन को फूँक ।।

(४)

गरम हवा उड़ाती धूल ।

मुरझाईं कलियाँ व फूल ।।

पढ़ना, मत तुम जाना भूल ।

खुलेगा जल्दी फिर स्कूल ।।

---------

डॉ. एस. के. पाण्डेय,

समशापुर (उ. प्र.) ।

*********

1 blogger-facebook:

  1. इन्हें अच्छी बाल कविताओं का दर्जा हासिल हो सकता है किसी पाठ्यक्रम में शामिल होने के लायक।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------