पुरुषोत्तम व्यास की कविता - तुम भूल गई हो...

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------


तुम भूल गई हो - पुरुषोत्तम व्यास

तुम भूल गई हो-
 
तुम भूल गई हो-
जब-तुमने प्रथम-बार
मेरी कविता पढ़ी
अधरों पर-कंच जैसी मुस्कान-भर
अपने-अधरों को अधरों से दबाकर
मधु-सी मुस्कान भर-कहा कि
तुम बहुत-प्यारी कविता लिखते हो ।
 
मेरा ह्दय-उत्साह-से भर पड़ा था
नव-कल्पनाओं के हिलोरों-मे
झूम पड़ा-था
तुम्हारे अधरों पर कविता
उसी-प्रकार लग रही थी
जैसे सावन मे मेघों की टोली ।
 
तुम भूल गई हो-
पर-अभी-भी स्मरण आती हो
मेरी रचनाओं में
प्रणय सुमन-बन छा जाती हों ।
 
तुम भूल गई हो-
कोकिला का मीठा-सा स्वर सुन
बड़े रोमांचित होते प्रकृति की
उस कृति पर ।
 
तुम भूल गई हो
शीत ऋतु की ठंड-भरी समीर
वह चमकती दिनकर की सुनहरी
सी-आभा-
ह्दय मे चमक उन सुनहरे स्वप्नों की ।
 
तुम भूल गई हो-
खिलखिलाते नव-नव पुष्प
तितलियाँ-अनेक रंग बिखरते हुई
पक्षियों की चहक उड़-रहे नभ में
प्रकृति के आनंद में संग-संग विभोर होते ।
 
पर तुम सब भूल गई हो
पर अभी तुम्हें स्मरण करती मेरी
एक नव रचना
और मेरे प्रणय ह्दय की इतनी-सी
चाह
तुम कह दो-
तुम बहुत प्यारी कविता लिखते हो........।

---

ई-मेल pur_vyas007@yahoo.com

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

2 टिप्पणियाँ "पुरुषोत्तम व्यास की कविता - तुम भूल गई हो..."

  1. आपकी पुरानी नयी यादें यहाँ भी हैं .......कल ज़रा गौर फरमाइए
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. कविताएँ ही पढ़वाते रहे उसको!
    --
    इसीलिए भूल गई!

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.