पुरुषोत्तम व्यास की कविता - अपनी कविता पढ़कर

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

DSCN5249 (Medium) (Mobile)

अपनी कविता पढ़कर

 

अपनी कविता पढ़कर

उसे याद करता

भूली भूली  सी याद को

फिर आंखों भरता हूँ

खड़ी है

अब भी वही

देख रही है मुझ को

ह्दय हर कोने में उसको ही पाता हूँ

शब्द होते नदी नदी

शब्द होते सागर सागर

प्यार ही प्यार  से दूर हो जाता ।

 

मेरे कमरे मै तितली आई

 

मेरे कमरे मै तितली आई

मन में खुशियां भर लाई

चहक गया सारा संसार

पंख फैलाये वह आई  ।

 

नयन- सुंदर-सें

मृग के नयन - फीके थे

बात – बात- मुस्कुराती

जीवन मे चाह जगाती ।

 

हर चीज मुझे - सुहाती

तुम ही मेरे हो-

कहते – कहते  रूक सी जाती

मेरे कमरे मै तितली आई ।

 

यह उसका प्यार मुझे प्यारा

लगता-

आवाज देने पर चुप - सा रहता

मेरे कमरे मै तितली आई ।

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

1 टिप्पणी "पुरुषोत्तम व्यास की कविता - अपनी कविता पढ़कर"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.