कैस जौनपुरी की लघुकथा मस्त चाल

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

कैस जौनपुरी की लघुकथा मस्त चाल

-“अरे यार...! देख जरा...क्या मस्त चाल है...!”

-“हां यार...! लेकिन कुछ ज्यादा ही मटक रही है...”

-“देख-देख...अरे वाह...ये तो मटक भी रही है...”

-“अबे अंधे...वो मटक नहीं रही है...भचक रही है...पोलियो की शिकार है...”

--

कैस जौनपुरी

qaisjaunpuri@gmail.com

--

(चित्र - ज्ञानेन्द्र टहनगुरिया की कलाकृति)

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

2 टिप्पणियाँ "कैस जौनपुरी की लघुकथा मस्त चाल"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.