शुक्रवार, 24 जून 2011

अजय कुमार तिवारी की कविता - हम जीतेंगे

हम जीतेंगे
मैने  देखा  आसमान में  खिचड़ी बँटते ,
हरिश्चंद्र के  चेलों को  वादों से  नटते ।

गाली बकते हैं जिसको  पानी पी पीकर ,
उसके एक इशारे पर  रातों को  खटते ।

सबकी क्या है मजबूरी  कैसे ये  कहूँ मैं ,
त्यागी के सपने कुचलें ? कैसे ये सहूँ मैं ।

फिर भी गर मुँह खोला तो सूरज चमकेगा ,
दहलाएगा  मुझको  जलाकर वो चहकेगा ।

रोज नए - नए  फंदे  फेंके    जाएँगे ,
तारे  सब चुगली  करते पकड़े  जाएँगे ।

नदियों को देखा समुद्र की ओर ही बहते ,
पेड़-पहाड़ हैं  आसमान से  बातें  करते ।

जहाँ प्रशासन प्रकृति , कहाँ है साथ हमारे ,
चोर  उचक्के हरदम   जीते हम  हैं हारे ।

अपनी भी हठ है कि आज   भले  रीतेंगे ,
अन्ना और हम साथ साथ हैं, हम जीतेंगे ।

अजय कुमार तिवारी,
बी-14,डी.ए.व्ही.कालोनी,
जरही,भटगाँव,जिला-सरगुजा,
छत्तीसगढ़, 497235

3 blogger-facebook:

  1. अन्ना के बिना भी अच्छी कविता है

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर सार्थक अभिव्यक्ति| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------