विज्ञापन

1

इश्क़ से गर वास्ता हो जायेगा,
मुश्किलों का सिलसिला हो जायेगा।

आज बेमन ही मदद करके तो देख,
आप ही , दिल कल बड़ा हो जायेगा।

दोस्ती कर लो चराग़ों से अगर,
आंधियों का डर फ़ना हो जायेगा।

इस ख़िज़ां के बाग़ को गर रौंदे हुस्न,
मरते मरते  भी हरा हो जायेगा।

गर पियोगे औरों के पैसों में रोज़,
एक दिन तू बेवड़ा हो जायेगा।

अपनी ज़ुल्फ़ों को संभालो जानेमन,
दिल का बादल बावरा हो जायेगा।

ज़ुल्म का फ़रसा दुधारी होता है,
कल तेरे सर पे खड़ा हो जायेगा।

बस हवस की लहरों से लड़ते रहो,
सब्र का सागर रज़ा हो जायेगा।

काशी में बिकने खड़ा है दानी, जो
मुझको लेगा पारसा हो जायेगा।

एक टिप्पणी भेजें

  1. आज बेमन ही मदद करके तो देख,
    आप ही , दिल कल बड़ा हो जायेगा।

    bahut achhi pantiya

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[और रचनाएँ][noimage][random][12]

 
शीर्ष