बुधवार, 6 जुलाई 2011

एस. के. पाण्डेय की लघुकथा - परीक्षा

परीक्षा

घुवरदास जी महाराज अपने शिष्य मंडली के साथ बैठे हुए भगवत चर्चा में संलग्न थे । इसी बीच अपने गृहस्थ जीवन से ऊब कर उनके शिष्यत्व की कामना से रामू आ पहुँचा और उन्हें प्रणाम करके अपनी मंशा से अवगत कराया । रघुवर दासजी ने रामू से कहा “मेरा शिष्यत्व प्राप्त करने के लिए हर किसी को परीक्षा देना पड़ता है । जो परीक्षा में खरा उतरता है । उसी को मैं मंत्र दान करता हूँ । यहाँ जितने लोग बैठे हुए हैं । सब के सब मेरी परीक्षा में खरे उतरे हैं । आपको भी ऐसा ही करना पड़ेगा” ।

रामू बोला “ महात्मन, मुझे जो भी आज्ञा होगी । मैं उसे अवश्यमेव पूरा करूँगा” ।

रघुवरदासजी बोले “ तुम एक गृहस्थ हो । अतः तुमको अपने घर-परिवार में रहकर अपने उत्तरदायित्वों का पालन करते हुए एक छोटा सा काम करना है । यदि तुम यह कर ले जाओ । समझो परीक्षा में उत्तीर्ण हो गए । और यदि उतीर्ण हो जाना तो निसंकोच मेरे पास चले आना । मैं तुमको अवश्य ही मंत्र दान करूँगा” ।

रामू बोला “आज्ञा कीजिए महाराज । दुनिया में कुछ भी असम्भव नहीं है” ।

रघुवर दास जी ने कहा “ तुम्हें पूरे एक महीने तक अपनी पत्नी को खुश रखना है । उसे किसी भी तरह की कोई भी शिकायत तुमसे नहीं होनी चाहिए । यदि किसी भी दिन वह तुमसे किसी भी बात पर जरा सा भी रुष्ट हो गई तो तुम परीक्षा में अनुत्तीर्ण माने जाओगे । अब जाओ ! लेकिन ध्यान रहे कि इस परीक्षा में तुम परीक्षार्थी और परीक्षक दोनों हो” ।

रघुवर दासजी रामू की प्रतीक्षा करते रहे । लेकिन वह वापस नहीं लौटा ।

------------

डॉ एस के पाण्डेय,

समशापुर (उ.प्र.) ।

http://www.sriramprabhukripa.blogspot.com/

********

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------