मंगलवार, 12 जुलाई 2011

अजय कुमार तिवारी की कविता - माँ

image

माँ

चली गई ,

अपने पार्थिव देह के साथ ,

सौभाग्‍यवती बनकर ।

 

श्रृंगार बनाव खूब हुआ ,

उसका ,

अंतिम यात्रा में ,

जितना जीते जी कभी नहीं हुआ ।

 

मैं नहीं जानता ,

क्‍या गया मेरा ।

 

दूध का गिलास ,

आँसू पोंछने का रुमाल ,

बड़े भाइयों की मार से बचाव का कवच ,

जागते सोते मुँह में पड़ने वाली ,

दूध की खखोरन ,

घर को थाम रखने वाला बलिंडा या स्‍तंभ ,

पिता की ठौर ,

या उनके कोप के शमन का जल ,

छायादार पेड़ ,

जिसकी छांव में ठंडक पाता ,

घर का पूरा परिवार

पता नहीं क्‍या गया ?

 

बस इतना जानता हूँ ,

कि उसी दिन मेरा घर मर गया ।

और मुझे दस बरस में ही ,

समझदार बनना पड़ा ।

---

  ajay kumar tiwari

अजय कुमार तिवारी,

बी-14,डी.ए.व्‍ही.कालोनी,

जरही, भटगाँव, जिला-सरगुजा,

छत्‍तीसगढ़, 497235

--

 

(चित्र - अमृतलाल वेगड़ के कोलाज का एक अंश)

3 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

और दिलचस्प, मनोरंजक रचनाएँ पढ़ें-

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------