शनिवार, 9 जुलाई 2011

हरिश्चन्द्र गौड़ की लघुकथा - खुशबू

DSCN5242 (Medium)

सामान्‍य ज्ञान का पीरियड था, अध्‍यापक ने सवाल किया ‘‘सबसे अच्‍छी खुशबू किसकी है?'' बच्‍चों ने अपनी जानकारी के अनुसार यथासंभव जबाब दिये। किसी ने गुलाब के फूल की खुश्‍बू को सबसे अच्‍छा बताया, किसी ने चमेली का फूल। कोई बोला इत्र की खुशबू अच्‍छी है,किसी ने टैल्‍कम पाउडर की खुशबू को अच्‍छा बताया। सबने अपने अपने हिसाब से कई चीजों की खुशबू के तर्क दिये।

कमली एक ओर चुपचाप बैठी थी, अध्‍यापक ने उसकी ओर देखा, वह खड़ी हुई और सिर झुकाकर धीरे से बोली ‘‘सर! रोटी की..........।

8 blogger-facebook:

  1. ‘‘सर! रोटी की..........।
    गजब! का चिंतन. निश्चित ही शेष सुगंघ तो तभी है जब पेट भरा हो. भूख में रोटी से अच्छी सुगंध भला किसकी? यथार्थ और १०० प्रतिशत सत्य.

    अब जरा पेट बहारों का हाल सुनिए -

    परन्तु,
    इंसान का जब भी भरा होता है
    पेट और भरी होती है - दोनों जेब;
    वह जा घुसता है नामी होटलों में.
    किसी अजनवी आशियाने में....
    अजनवी लोगों के बीच पाने को ख़ुशी.

    उत्तर देंहटाएं
  2. रोटी की सुगंघ? १०० प्रतिशत सत्य|

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी लघु कथा ... रोती की सुगंध .. इसके बिना जीवन ही नहीं ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी लघुकथा....
    रोटी की सुगंध........किसी भूखे के लिए इससे बढ़कर कुछ भी नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  5. अति लघु कथा और बहुत बड़ी बात-रोटी की खुश्बू -जरुरत के अनुसार ही हमें सब कुछ वैसे ही दिखता है

    शुभकामनाएं
    शुक्ल भ्रमर ५
    वह खड़ी हुई और सिर झुकाकर धीरे से बोली ‘‘सर! रोटी की..........।

    उत्तर देंहटाएं
  6. लघु कथा का सही चित्रण सटीक रूप से
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------