गुरुवार, 21 जुलाई 2011

एस. के. पाण्डेय की लघुकथा - लायक

जनी अपने पति मोहन से कह रही थी कि भगवान किसी को पुत्र दें तो लायक दें अथवा न दें। मोहन बोला “भगवान का शुक्र है कि हमारा बेटा लायक है”। रजनी आश्चर्य से मोहन को देखते हुए बोली “रामू लायक है ! जो यह भी नहीं जानता कि उसके माता-पिता भी हैं और वे अभी जिंदा हैं तथा उनके प्रति भी उसकी कुछ जिम्मेदारी है”।

मोहन बोला “अब तक मैं भी यही सोचता था कि एक बेटा हुआ भी तो नालायक निकल गया। लेकिन शर्माजी की दशा देखकर आज मुझे मालुम हुआ कि अपना रामू कितना लायक है। कम से कम उसने कभी हमारे ऊपर हाथ तो नहीं उठाया। और अपने बीबी-बच्चों का ही सही पालन-पोषण तो कर ही रहा है। नहीं तो आज ऐसे-ऐसे नालायक हैं जो माता-पिता तो क्या अपने बीबी-बच्चों के प्रति भी कोई जिम्मेदारी नहीं समझते”।

---------

डॉ. एस. के. पाण्डेय,

समशापुर(उ. प्र.)।
URL: http://sites.google.com/site/skpvinyavali/

*********

2 blogger-facebook:

  1. बिल्कुल सही कहा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. ACHCHI LAGHU KATHA HAI.DUKH KO KAM KARNE KE LIYE TULNA KARAKE SANTOSH MILATA HAI TO YAHI SAHI.
    PAVITRA AGARWAL

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------