सोमवार, 18 जुलाई 2011

दामोदर लाल ‘जांगिड़' की ग़ज़ल

 

image

बंट रहा बचपन से फिरता उखड़ा उखड़ा आदमी।

इस कदर टूटा हुआ हैं टुकड़ा टुकड़ा आदमी॥

 

रिश्ता अभिवादन से थोड़ा सा जरा आगे बढ़ा,

रूह से रूखा मिला वो चिकना चुपड़ा आदमी।

 

पूर्वजों ने रीढ़ के बल उठने की कोशिश की,

हो रहा हैं दिन ब दिन क्‍यों फिर से कुबड़ा आदमी।

 

परिवार की परिभाषा बीवी बच्‍चों तक महदूद हैं,

कर रहा हैं हद से ज्‍यादा, दिल को संकड़ा आदमी।

 

मतलबी हैं या हैं कुछ मजबूरियां उसकी कोई,

झुकता हैं बौनों के आगे लम्‍बा तगड़ा आदमी।

 

पाप ,पुण्‍य, स्‍वर्ग का मोह नर्क का डर है उसे,

और धर्म की ब्रह्मपाश बैठा है जकड़ा आदमी।

---

-- दामोदर लाल ‘जांगिड़'

6 blogger-facebook:

  1. पूर्वजों ने रीढ़ के बल उठने की कोशिश की,
    हो रहा हैं दिन ब दिन क्‍यों फिर से कुबड़ा आदमी।


    परिवार की परिभाषा बीवी बच्‍चों तक महदूद हैं,
    कर रहा हैं हद से ज्‍यादा, दिल को संकड़ा आदमी।
    ..Jangid se parichay aur bahut sundar rachna prastuti ke liye aapka bahut bahut aabhar!

    उत्तर देंहटाएं
  2. दामोदर जी,
    वैसे तो आपकी पूरी रचना ही अच्छी है लेकिन इन दो लाइनों की तो बात ही कुछ और है, कि
    मतलबी हैं या हैं कुछ मजबूरियां उसकी कोई,
    झुकता हैं बौनों के आगे लम्‍बा तगड़ा आदमी।
    वाह- वाह, बधाई हो....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहद खुबसुरत अभिव्यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------