शुक्रवार, 22 जुलाई 2011

रचना श्रीवास्तव की कविता - एक औरत

btagstgond0016 (Mobile)

एक औरत
जब अपने अन्दर खंगालती   है
तो पाती है
टूटी फूटी
इच्छाओं की सड़क ,,
भावनाओं का
उजड़ा बगीचा ,


और
लम्हा लम्हा मरती उसकी
कोशिकाओं  की लाशें  
लेकिन
इन सब के बीच भी
एक गुडिया
बदरंग कपड़ों मे मुस्काती है


ये औरत
टूटती है ,बिखरती है
काँटों से अपने जख्म सीती है
पर इस गुडिया को
खोने नहीं देती 
शायद इसीलिए
तूफान  की गर्जना को
गुनगुनाहट में बदल देती है
औरत

14 blogger-facebook:

  1. औरत का जिंदगी की सच्‍चाई रुला देती है ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. औरत की जिंदगी औप मन: स्थिति का सुंदर चित्रण...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत गहर चिन्तन , मर्मस्पर्शी भाव । रचना की कविताओं में नए विषयों का सन्धान इनकी रचाना धर्मिता को ऊँचाई प्रदान करता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. Samvegansheel kavita jo sochne ko majboor karti hai. Pratyek purush varg ko aaina dikhati hai. Thanks, jagane ke liye...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बिल्कुल सही विश्लेषण किया है ...सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  6. ज़िन्दगी देती है औरत
    जीवन संवारती है औरत

    उत्तर देंहटाएं
  7. aap sabhi ne kavita ko pasand kiya .mera likhan safal huaa.aapsabhi ka dhnyavad
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  8. औरत के जीवन की मार्मिकता को बयान करती एक हृदयस्पर्शी रचना के लिए मेरी बधाई...।

    प्रियंका

    उत्तर देंहटाएं
  9. मार्मिक प्रस्तुति ||
    बधाई स्वीकारें ||

    उत्तर देंहटाएं
  10. खूसूरत रचना बधाई ! लेकिन आज औरत बहुत आगे निकल चुकी है हाँ गांव में आज भी स्थिति कुछ एसी ही है |

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत भावपूर्ण कविता है--मर्मस्पर्शी.
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  12. नारी की पीडा और अनुभव की बात नारी ही अधिक प्रामाणिकता से कर सकती है ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. नारी की पीडा और अनुभव की बात नारी ही अधिक प्रामाणिकता से कर सकती है ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. dipti ji ,vijay ji ,anant ji,ravikar ji,priyanka ji aap sabhi ka bahut bahut dhnyavad.
    rachana

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------