गुरुवार, 21 जुलाई 2011

प्रभुदयाल श्रीवास्तव की हास्य व्यंग्य कविता - भ्रष्टाचारीजी की आरती

भ्रष्टाचारी-जी की आरती

तेरी हर रोज विजय होवे
हे भ्रष्ट तुम्हारी जै होवे|


दिन दूनी रात चौगुनी अब
ये रिश्वत बढ़ती जाती है
नेता अफसर बाबू की तिकड़ी
मिलजुलकर ही खाती है
धोती कुरता टोपी वाले
जब नेताजी बन जाते हैं
ये बिना किसी डर दहशत के
ये रिश्वत लप-लप खाते हैं
खाने पीने में हर नेता
संपूर्ण तरह निर्भय होवे|


तुम चारा तारकोल सड़कें
यूं खड़े खड़े खा जाते हो
अरबों खरबों डालर यूं ही
तुम मिनटों में पा जाते हो
पुलों बांध नहरों में भी तुम
गोता रोज लगाते हो
हीरे मोती मानिक पन्ना
तुम खोज खोज कर लाते हो
ये खोज तुम्हारी हे प्रियतम
नित नूतन नव अभिनव होवे|


जब घर से दफ्तर जाते हो
मोटी रिश्वत पा जाते हो
जब तक न अच्छी रकम मिले
तुम फाइल‌ नहीं सरकाते हो
तुम पेड़ लगाने में खाते
कटवाने में भी खा जाते
तुम कर्ज दिलाने में खाते
पटवाने में कुछ पा जाते
रात तुम्हारी सुंदर हो
और दिवस पूर्ण सुखमय होवे|


दाल चावल गेहूं दालों में
कंकड़ तुम मिल‌वाते हो
धनिया में लीद मिर्च में रेती
मिला मिला खिल‌वाते हो
नकली पानी नकली दारू
तुम दुनिया को पिलवाते हो
सत्ता को अपनी मर्जी से
आगे पीछे चलवाते हो
सदा पक्ष मे तेरे ही
हे भ्रष्ट देव निर्णय होवे|


ये भ्रष्टाचार सनातन है
हम सदियों से खाते आये
काम किया तो बक्शीसें
हम बदले में पाते आये
राजा रानी के समय प्रजा को
बहुत इनामें मिलती थीं
काम करो थोड़ा सा भी
ढेरों सौगातें मिलती थीं
यह परम्परा निभती जाये
जनगण मन मंगलमय होवे|


वैसे तो अंतर्यामी हो
तुम पद के लोलुप कामी हॊ
तुम तस्कर हो तुम गुंडे हो
कहते हैं डाकू नामी हो
तुम बच्चों को हर लाते हो
तुम वृद्धों को उठवा लाते
और फिरौती लेकर के
तुम लाखों यूं ही पा जाते
तेरी निष्ठा पर दुनियां को
न किसी तरह संशय होवे|


तुम थल में भी इतराते हो
और जल में भी लहराते हो
जब भी मर्जी होती फौरन
तुम अंबर में उड़ जाते हो
तुमने अरबों खरबों डालर
रखवाये हैं स्विस बैंकों में
कभी कभी रखवा देते
बोरों में गद्दों टेंकों में
सुर ताल तुम्हारे ठीक रहें
सरगम की सुंदर लय होवे।

----

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------