आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

ऋता शेखर ‘मधु’ की बाल कविता - शिशु बेचारा

 clip_image002

बाल कविता

शिशु बेचारा

clip_image004

मैं बेचारा बेबस शिशु

सबके हाथों की कठपुतली

मैं वह करुं जो सब चाहें

कोई न समझे मैं क्या चाहूँ।

 

दादू का मै प्यारा पोता

समझते हैं वह मुझको तोता

दादा बोलो दादी बोलो

खुद तोता बन रट लगाते

मैं ना बोलूँ तो सर खुजाते।

 

सुबह सवेरे दादी आती

ना चाहूँ तो भी उठाती

घंटों बैठी मालिश करती

शरीर मोड़ व्यायाम कराती

यह बात मुझे जरा नहीं भाती।

 

ममा उठते ही दूध बनाती

खाओ पिओ का राग सुनाती

पेट है मेरा छोटा सा

उसको वह नाद समझती

मैं ना खाउँ रुआँसी हो जाती

सुबक सुबक सबको बतलाती।

 

पापा मुझको विद्वान समझते

न्यूटन आर्किमिडिज बताते

चेकोस्लाविया मुझको बुलवाते

मैं नासमझ आँखें झपकाता

अपनी नासमझी पर वह खिसियाते।

 

चाचा मुझको गेंद समझते

झट से ऊपर उछला देते

मेरा दिल धक्-धक् हो जाता

उनका दिल गद्-गद् हो जाता।

 

भइया मेरा बड़ा ही नटखट

खिलौने लेकर भागता सरपट

देख ममा को छुप जाता झटपट

मेरी उससे रहती है खटपट।

 

सबसे प्यारी मेरी बहना

बैठ बगल में मुझे निहारती

कोमल हाथों से मुझे सहलाती

मेरी किलकारी पर खूब मुसकाती

मेरी मूक भाषा समझती

अपनी मरज़ी नहीं है थोपती।

 

दीदी को देख मेरा दिल गाता

“ फूलों का तारों का

सबका कहना है

एक हजा़रों में

मेरी बहना है।”

 

--

ऋता शेखर मधु

जन्म- ३ जुलाई,

पटना,बिहार।

शिक्षा- एम एस सी{वनस्पति शास्त्र}, बी एड.

पटना,बिहार।

रुचि- अध्यापन एवं लेखन

प्रकाशन-इंटरनेट पत्रिका पर कुछ रचनाएँ प्रकाशित

1) अनुभूति - हाइकु

2) हिन्दी हाइकु - हाइकु एवं ३ हाइगा

 

हाइगा का प्रेरणा स्रोत- http://hindihaiku.wordpress.com/

 

हाइगाजापानी पेण्टिंग की एक शैली है,जिसका शाब्दिक अर्थ है-चित्र-कविता हाइगा दो शब्दों के जोड़ से बना है …” हाइ” = कविता या हाइकु + “गा” = रंगचित्र ( चित्रकला ) । हाइगा की शुरुआत १७ शताब्दी में जापान में हुई । हाइगा में तीन तत्व होते हैं – रंगचित्र + हाइकु कविता + सुलेख ।रंगचित्र चाहे हाइकु के बिम्ब न भी बता रहा हो लेकिन इस दोनों में घनिष्ट संबंध होता है । उस जमाने में हाइगा रंग - ब्रुश से बनाया जाता था । लेकिन आज डिजिटल फोटोग्राफी जैसी आधुनिक विधा से हाइगा लिखा जाता है !

रामेश्वर काम्बोज हिमांशु’-डॉ हरदीप कौर सन्धु

टिप्पणियाँ

  1. अबोध बाल मन की व्यथा का क्या खूब चित्रण किया है|
    अब मैं जब भी बच्चों के साथ खेलूँगा तो मुझे आपकी कविता
    याद आएगी और मैं उसके मन की बातों को समझ सकूँगा|

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक सार्थक और अच्छी बाल-कविता, मधु जी को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत प्यारे शब्दों के कोमल तन्तुओं में बँधी और शिशु-मन के भावों को उकेरती हृदयहारी कविता ।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.