बुधवार, 31 अगस्त 2011

सुरेन्‍द्र अग्‍निहोत्री की कविता - हम जानते हैं

हम जानते हैं हर इंसान में सरकार होती है एक दिन के लिए जिम्‍मा मिले तो आश्‍वस्‍त करता हूं दर्द की परछाइयाँ भूली-बिसरी बात होगी बदल जायेगी स...

गंगा प्रसाद शर्मा गुणशेखर की कविता - अब और नहीं बरगला पाओगे सरकार!

  तुम्हारे आलीशान बंगले की  रखवाली करता हुआ मेरा चाचा  केवल तुम्हें अच्छी लगने के कारण तुम्हारे हरम में आजन्म कुँआरी बैठी मेरी बुआ  गली-गली...

दामोदर लाल ‘जांगिड़' की अन्ना हजारे को समर्पित ग़ज़ल

ग़ज़ल जो सुने ना प्रजा की हुंकार । बिलकुल बहरी है सरकार॥   प्रजातंत्र की पीर अपार, बन गयी ‘अन्‍ना' का दरबार।   राज मुकुट सिंहासन डोले, ...

मंगलवार, 30 अगस्त 2011

रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’ के कुछ हाइकु

उदासी (हाइकु)   1 छोड़ो उदासी कि नदिया भी प्यासी मिले न जल 2 बीता है आज रीता बहुत कुछ भरेगा कल 3 मूँदो न नैना देखो इधर भी धारा तरल...

दिनेश पाठक 'शशि' का व्यंग्य - जाही विधि राखे राम...

‘‘जाही विधि राखे राम, ताही विधि रहिए’’ वाक्य को तुलसीदास जी ने रामचरित मानस में जिस सन्दर्भ में कहा है उसमें प्राणी मात्र की एक निरीहता ही ...

सतीश चन्द्र श्रीवास्तव की कविताएँ

और ख़्वाब देखना मना है जागते रहो, अपनी आँखों मे उगंलियाँ डाल कर क्योंकि सोने में खतरा है ख्वाब देखने का, और ख़्वाब देखना मना है । हो सकता ...

रामदीन की अर्द्धसत्य कविता

अर्द्ध-सत्‍य मिटती है सब रार, मिटाने वाला चाहिए। मिटता है अत्‍याचार, मिटाने वाला चाहिए। जादू की जब छड़ी चलाये, जनता अपने दम पर। दूध छठी का...

यशवन्‍त कोठारी का व्यंग्य - पत्नी की बीमारी

जैसा कि आप जानते हैं, पत्‍नियां जो हैं, वे जब पति के घर आती हैं तब भी बीमार होती हैं और जब जाती हैं तब भी बीमार होती हैं । पत्‍नी या बीवी क...

शोभा रस्तोगी शोभा की कविता - बिछौना भर

उसने भी चाहा था उड़ना नील गगन में चलना समंदर की लहरों पे भर लेना खुशियों को अंक में दौड़ लगाना मखमली घास पर खुशबू को समेट लेना सांसों मे...

साहित्‍य संस्‍था ‘मंथन, चण्‍डीगढ़ में भ्रष्‍टाचार पर कविताओं से वार

चण्‍डीगढ़ । साहित्‍य संस्‍था ‘ मंथन ' के सौजन्‍य से आज रविवार , दिनांक 28 अगस्‍त , 2011 को महावीर मुनी जैन मन्‍दिर , सैक्‍टर 23- डी...

सोमवार, 29 अगस्त 2011

संजय दानी की ग़ज़ल - रमजान का उपवास

इक धूप का टुकड़ा भी मेरे पास नहीं है, पर अहले जहां को कोई संत्रास नहीं है। मंझधार से लड़ने का मज़ा कुछ और है यारो, मुरदार किनारों को ये अहसास...

के. नन्‍दन ‘अमित' की अन्ना को समर्पित दो कविताएँ

लोकपाल की निगरानी चला अकेला अन्‍ना लेकिन नहीं अकेला रह जाए जनता की बातों को जनमत के जोर से कह जाए है देष गरीबों का, लेकिन सरकार यहाँ पूँजीव...

पिलकेंद्र अरोरा के कुछ सड़कछाप दोहे

निर्माण तेरा बुदबुदा, अस मानुस की जात रात बनत उखड़ जात है, ये सड़क प्रभात सड़क में गड्ढे गड्ढे में सड़क, भीतर बाहर है मिट्टी मिट्टी गिट्टी...

रविवार, 28 अगस्त 2011

राहुल तिवारी की कविता - गांधी की नयी तस्वीर

गाँधी की नयी तस्वीर कुछ यूं किसी ने आस जगाई है न कोई दल न मजहब न जाती की लड़ाई  है अन्ना तेरी जिद ने गाँधी की नयी तस्वीर बनाई है   भ...

एस. के. पाण्डेय की लघुकथा - जज्बात

जज्बात भ्रष्टाचार के विरुद्ध हो रहे प्रदर्शनों को देख-सुनकर रामू से भी नहीं रहा गया। अपने कुछ दोस्तों को साथ लेकर शहर के भगत सिंह चौराहे प...

शंकर लाल इंदौर की अन्ना को समर्पित कविताएँ

जन लोकपाल: अन्ना और सरकार अनशन पर बैठ गए अन्ना हजारे बोले भ्रष्टाचार मिटाने को भ्रष्टाचारियों को सजा दिलाने को जन लोकपाल कानून बनाये सरकारे...

शनिवार, 27 अगस्त 2011

कान्ति प्रकाश त्यागी की हास्य कविता - गधे के सींग

गधे के सींग डा० कान्ति प्रकाश त्यागी अदालत में एक विशेष केस पेश हुआ, केस सुनकर न्यायाधीश बेहोश हुआ। हूज़ूर ! फ़रज़ू का कहना है, धरमू उसका गध...

आदमखोर (कहानी संकलन) संपादक - डॉ. दिनेश पाठक 'शशि' - दिनेश पाठक 'शशि' की कहानी : एक और अभिमन्यु

कहानी संग्रह आदमखोर (दहेज विषयक कहानियाँ) संपादक डॉ0 दिनेश पाठक ‘शशि’ संस्करण : 2011 मूल्य : 150 प्रकाशन : जाह्नवी प्रकाशन विवेक व...

आदमखोर (कहानी संकलन) संपादक - डॉ. दिनेश पाठक शशि - 18 - शशि पाठक की कहानी : मकड़जाल

कहानी संग्रह आदमखोर (दहेज विषयक कहानियाँ) संपादक डॉ0 दिनेश पाठक ‘शशि’ संस्करण : 2011 मूल्य : 150 प्रकाशन : जाह्नवी प्रकाशन विवेक व...

आदमखोर (कहानी संकलन) संपादक - डॉ. दिनेश पाठक शशि - 17 - चरण सिंह जादौन की कहानी : दहेज के लिए

कहानी संग्रह आदमखोर (दहेज विषयक कहानियाँ) संपादक डॉ0 दिनेश पाठक ‘शशि’ संस्करण : 2011 मूल्य : 150 प्रकाशन : जाह्नवी प्रकाशन विवेक व...

आदमखोर (कहानी संकलन) संपादक - डॉ. दिनेश पाठक शशि - 16 - माधुरी शास्त्री की कहानी : सीढ़ियाँ चढ़ती धूप

कहानी संग्रह आदमखोर (दहेज विषयक कहानियाँ) संपादक डॉ0 दिनेश पाठक ‘शशि’ संस्करण : 2011 मूल्य : 150 प्रकाशन : जाह्नवी प्रकाशन विवेक व...

आदमखोर (कहानी संकलन) संपादक - डॉ. दिनेश पाठक शशि - 15 - राज चतुर्वेदी की कहानी : दहेज

कहानी संग्रह आदमखोर (दहेज विषयक कहानियाँ) संपादक डॉ0 दिनेश पाठक ‘शशि’ संस्करण : 2011 मूल्य : 150 प्रकाशन : जाह्नवी प्रकाशन विवेक व...

आदमखोर (कहानी संकलन) संपादक - डॉ. दिनेश पाठक शशि - 14 - प्रेम दत्त मिश्र मैथिल की कहानी : आत्मदाह

कहानी संग्रह आदमखोर (दहेज विषयक कहानियाँ) संपादक डॉ0 दिनेश पाठक ‘शशि’ संस्करण : 2011 मूल्य : 150 प्रकाशन : जाह्नवी प्रकाशन विवेक व...

आदमखोर (कहानी संकलन) संपादक - डॉ. दिनेश पाठक शशि - 13 - मंजुला गुप्ता की कहानी : नीड़ के पंछी

कहानी संग्रह आदमखोर (दहेज विषयक कहानियाँ) संपादक डॉ0 दिनेश पाठक ‘शशि’ संस्करण : 2011 मूल्य : 150 प्रकाशन : जाह्नवी प्रकाशन विवेक व...

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------