मंगलवार, 16 अगस्त 2011

चकमक का 300 वाँ अंक : पढ़ने के आनंद के लबालब पूरे 200 पन्ने!

पत्रिका 'चकमक' बच्चों के साथ साथ बड़े-बूढ़ों में भी उतना ही लोकप्रिय है. वैसे तो इसका हर अंक बेहद पठनीय, रोचक और संग्रहणीय होता है, मगर इसका 300 वाँ अंक विशिष्ट होगा. कैसे? जरा नीचे दिए गए फ्लायर पर नजर डालें -chakmak1

chakmak2

यह अंक असल में सितम्बर-अक्टूबर का जुड़वाँ अंक होगा. 200 से ज़्यादा पन्ने होंगे इसमें.
और, जैसा कि ऊपर चित्र में झलक रहा है,  आपको इसमें बेहद आत्मीय, रोचक, समृद्ध, सुविविध सामग्री मिलेगी.

है न बेहद संग्रहणीय अंक?

अपनी प्रति आज ही सुरक्षित कर लें. कहीं ऐसा न हो कि आप टीपते रह जाएँ और अंक सोल्ड-आउट हो जाए.

संपर्क:

Sushil Shukl
Chakmak
E10, Shankar Nagar, BDA Colony,
Shivaji Nagar, Bhopal 16
Ph - 94250 10115, (0755) 4252927

2 blogger-facebook:

  1. बहुत अच्छी सूचना .सार्थक लेखन .आभार
    slut walk

    उत्तर देंहटाएं
  2. पहले से इस अंक के बारे में जानकारी देकर बढि़या काम किया है आपने। मैं तो पहले से ही यह अंक बाजार में आने की ताक में रहूँगा।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------