चिरंजीलाल 'चंचल' के दोहे

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

प्रस्तुत है डॉ० चिरंजीलाल 'चंचल' की पुस्तक - दोहांजिली से चुने हुए 10 दोहे -

दोहांजिली - दोहे

अंक दे भी न कह सके, दिल में थी जो बात।

विवश अधिक थे कर रहें, जिनको निज हालात॥-१

 

अंग-अंग ढीला किया,मेहनत ने भरपूर।

गिर के फिर कब उठ सके, बनते थे जो शूर॥-२

 

अंग-अंग उल्लास भरा, फूला नहीं समाय।

फूल देख कचनार के, भौंरा रहा मुस्काय॥-३

 

अंग को नहीं लग रहा, चाहे कुछ भी खाय।

सब पेड़ों को हो गया, पतझड़ बुरी बलाय॥-४

 

अंगारों को उगलता, अब सूरज हर ओर।

लगता मौसम गर्मी का, होने लगा किशोर॥-५

 

अंगारे बरसा रहे, छोड़ शब्दों के बाण।

उनको अनुचित दीखते, शायद अपने प्राण॥-६

 

अंगारे सिर पर रखे, हमने देखे लोग।

बोल न मुख से निकलते, जब लगते हैं रोग॥-७

 

अंगारों पर लेट के, काटी सारी रात।

चैन किसी करवट नहीं, साथ हुआ जब घात॥-८

 

अंगुलियाँ उठने लगे, देखें अनुचित काम।

किसी जीभ पर फिर कहाँ, लगती यहाँ लगाम॥-९

 

अगुलियाँ उठाने से, ले सच कहाँ विराम।

उसको तो हर हाल में, जाना अपने धाम॥-१०

 

डॉ० चिरंजीलाल 'चंचल'

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "चिरंजीलाल 'चंचल' के दोहे"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.