गुरुवार, 25 अगस्त 2011

कैस जौनपुरी की ग़ज़ल : आज मैं खुद को सताना चाहता हूँ...

image

ग़ज़ल

आज मैं खुद को सताना चाहता हूँ...

 

आज मैं खुद को सताना चाहता हूँ

मैं बुरा हूँ ये सबको बताना चाहता हूँ

 

गुनाह किये हैं मैंने हँसते-हँसते

आज उन गुनाहों की सजा पाना चाहता हूँ

 

सब समझते हैं बहुत अच्छा मुझे

आज सबका ये वहम मिटाना चाहता हूँ

 

तुम्हारी परवाह नहीं तो अपना खयाल क्यूँ रहे

आज मैं खुद को मिटाना चाहता हूँ

 

बरसते भीगते मौसम में आँसू बह रहे हैं

आज अपने आँसुओं में डूब जाना चाहता हूँ

 

सख्त फैसला ले लिया है अब

आज अपने फैसले को निभाना चाहता हूँ

--

Qais Jaunpuri

A factory of creative ideas...

Films I Ads I Literature

qaisjaunpuri@gmail.com

www.qaisjaunpuri.com

5 blogger-facebook:

  1. दिल पर करारी चोट करने वाली गज़ल.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेनामी7:43 pm

    bahar se khariz hai poori gazal ye,
    main bhi itana batana chahata hoon.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरे आदरणीय भाई कैस जौनपुरी साहब, प्लीज़ बुरा न मानिये, ग़ज़ल के अलावा कोई और विधा अपना लें तो अच्छा है। शायद ये आपके लिये नहीं बनी है। एक भी शेर छंद में नहीं है। अफ़सोस हो रहा है। सालभर इंतज़ार कीजिये, किसी अच्छे शायर को उस्ताद बनाइये, तब ग़ज़ल कहियेगा। मुआफ़ करना भाई। - कृष्णकुमार ‘नाज़’

    उत्तर देंहटाएं
  4. नही जानती गजल किसे कहते या गीत क्या होता है?शब्दों,नियमों में नही भावों में डूबना सीखा है और.........जब भी कुछ पद्धति हूँ वो ही करती हूँ.बहुत खूबसूरत ...मन की बात आपकी नही मेरी है.यही सब मैं साधारण शब्दों में कहती हूँ अक्सर मिलने वालों से हा हा हा दोस्तों और रिश्तेदारों से .आपने उसे गजल के रूप में ढाला है या .....गीत के रूप में.
    पर....सचमुच अच्छी लगी.श्री कृष्ण कुमार जी ने जो बात कही उसे जरा अच्छी तरह भी कहा जा सकता था.फिर भी..........कुछ सीखने से यदि लेखन में निखार आता है तो कोई बुराई नही. आखिर कमेन्ट का ओप्शन हमने रखा भी तो इसीलिए है न?

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------